श्रीकांत त्यागी के बचाव में उतरी पत्नी, लगाया बीजेपी सांसद महेश शर्मा पर आरोप

Spread the love

ABC News: नोएडा के ओमैक्स परिसर में महिला के साथ गालीगलौज और अभद्रता करने के आरोपी श्रीकांत त्यागी के बचाव में उनकी पत्नी अनु त्यागी सामने आई हैं.अनु त्यागी ने कहा कि उनके पति को अरेस्ट नहीं किया गया है, बल्कि उन्होंने सरेंडर किया है. स्वामी प्रसाद मौर्य के सवाल पर अनु ने कहा कि उनके साथ हमारे घरेलू ताल्लुकात हैं, वह घर पर भी आए हैं और हमारे कार्यालय में भी आए हैं.

श्रीकांत त्यागी की पत्नी ने संबंधित वीवीआइपी पास को लेकर कहा कि कोई मेरे हस्बैंड का परिचित है जो परेशान है, उनसे चिढ़ता है, यह उन्हीं की राजनीति है. हम राजनीति नहीं करते, मैं तो यहां पर आरडब्लूए का चुनाव लड़ने वाली थी, क्योंकि यहां पर यह लोग पैसा खाते हैं. जिनके पास 2BHK लेने के पैसे नहीं है वह 3 साल में लिंकन टावर में ग्राउंड फ्लोर पर फ्लैट ले रहे हैं. नोएडा के बीजेपी सांसद महेश शर्मा पर आरोप लगाते हुए अनु त्यागी ने कहा कि यह सब कुछ कराधरा भी उन्हीं का है, उन्होंने (महेश शर्मा) पुलिस कमिश्नर को गाली दी थी, इसलिए पुलिस ने हमारे साथ यह व्यवहार किया था क्योंकि सांसदजी ने ऐसा करने को कहा था. अनु ने कहा कि सोसाइटी में 1300 फ्लैट हैं, लेकिन कुछ गिने-चुने लोग ही हमारा विरोध कर रहे हैं. श्रीकांत त्यागी की पत्नी अनु त्यागी ने बताया कि पुलिस ने मुझे शुक्रवार, शनिवार और रविवार दोपहर तक अपनी कस्टडी में रखा, मुझे पुरुष थाने में रखा गया था. मेरे साथ मारपीट नहीं की गई लेकिन मुझे मानसिक रूप से खूब प्रताड़ित किया गया. मेरे साथ बहुत ही अभद्र व्यवहार किया गया, हर तरीके की बदसलूकी और बदतमीजी की गई. अनु त्यागी ने कहा कि जैसा कि वह महिला कह रही है कि तूने मेरे पौधों को टच किया तो मैं तुझे टच करूंगी. उस लेडी ने ऐसा कुछ किया ही नहीं था. उस लेडी ने 2 पौधे तोड़े थे मेरे, मैंने मना भी किया था. मैं वहां पर देरी से आई, कैमरों की भी जांच की जाएगी अगर कोई रिकॉर्डिंग डिलीट करेगा. 15 मिनट पहले मैं वहीं पर थी. कुछ देर के लिए जैसे ही वहां से गई तो वे महिलाएं नीचे आ गईं. वहां पर पुरुष गार्ड थे. जिन महिलाओं को आपत्ति थी, उस वक्त क्यों नहीं आईं. वह तो दिख ही रहा है उस महिला ने जानबूझकर इन्हें प्रोवोक किया. जब मैं वहां पर थी तब क्यों नहीं आई. जब मेरे पति घर के बाहर निकले, तब वह आई थी. मेरे पति ने सिर्फ यही कहा कि दो ही पौधे उखाड़े. इसी पर बहस होने लगी. क्या पौधे लगाने के लिए किसी से पूछना जरूरी है. अपने घर के आगे लगाए थे. क्या वह पौधे मुझे अनाज देंगे. किसी एक को यहां पर खड़ा कर दो जो यह बोल दे कि यह हमारा पर्सनल स्पेस है. जिस दिन अरेस्ट हुई मैं घर पर थी. मेरे पति अरेस्ट नहीं हुए उन्होंने सरेंडर किया है.

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें  Facebook, Twitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login- www.abcnews.media