‘राधे’ और ‘उल्लू’ का खात्मा, अब ‘मुर्गी’ की तलाश, अतीक के गुर्गे इन नामों से जाने थे

News

ABC NEWS: यूपी पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (UP STF) ने 13 मार्च को झांसी में ‘राधे और उल्लू’ यानि अतीक के बेटे असद और शूटर मोहम्मद गुलाम का एनकाउंटर कर दिया. पुलिस को ‘मुर्गी’ और ‘सांईबाबा’ यानि कि बमबाज गुड्डू मुस्लिम और अतीक अहमद की पत्नी शाइस्ता परवीन की तलाश है. यह वह कोडनेम हैं, जिन्हें उमेश पाल मर्डर केस के आरोपियों की पहचान छुपाने के लिए अतीक एंड गैंग उपयोग किया करती थी. अतीक के पुस्तैनी घर से पुलिस को रजिस्टर मिला था, जिसमें उमेश पाल की हत्या की साजिश में शामिल हर किसी को अलग-अलग कोडनेम दिया गया था.

‘राधे और उल्लू’ कोडनेम के पीछे की वजह
बॉलीवुड फिल्म तेरे नाम में सलमान खान की तरह बड़े-बड़े बाल रखे थे, असद भी उसी स्टाइल में लंबे बाल रखता था. फिल्म में सलमान खान ने राधे का किरदार निभाया था, इस वजह से उसे असद का कोड नेम ‘राधे’ रखा गया था. वहीं, मोहम्मद गुलाम को रात में जागने की आदत थी, जिस वजह से उसे ‘उल्लू’ कोड नेम रखा गया था. मोहम्मद को अतीक का खास गुर्गा कहा जाता था.

अतीक अहमद ‘बड़े’, अशरफ को बुलाया था ‘छोटे’
अतीक अहमद बड़े और अशरफ को छोटे कहकर बात करते थे आरोपी सूत्रों के मुताबिक, उमेश पाल शूटआउट केस की साजिश के दौरान गुजरात की साबरमती जेल में बंद माफिया अतीक अहमद को ‘बड़े’ नाम दिया गया था. इसी तरह यूपी की बरेली जेल में बंद अतीक अहमद के भाई खालिद अजीम उर्फ अशरफ को ‘छोटे’ कोड वर्ड दिया गया था. इसी तरह वारदात में शामिल पांच -पांच लाख के इनामी पांचों शूटर्स के नाम के भी कोड वर्ड तैयार किए गए थे.

चिकन शॉप चलाने के चलते नाम पड़ा ‘मुर्गी’
गुड्डू मुस्लिम को मुर्गी का कोड नेम इसलिए दिया गया था क्योंकि वह अतीक के घर के पास ही शॉप चलाता था. गुड्डू मुस्लिम को लेकर कहा जाता है कि वह बम मारकर लोगों की हत्या करता था. उमेश पाल हत्याकांड में भी उसने पुलिसकर्मी और उमेश पर बम फेंका था. घटना के जो वीडियो सामने आए थे, उनमें बम फेंकता हुआ गुड्डू साफ नजर आ रहा था.

अरमान था ‘बिहारी’ और ‘उस्मान’ था विजय का कोडनेम 
वहीं, शूटर अरमान बिहार के सासाराम का रहने वाला था, इसलिए उसे ‘बिहारी’ कोड वर्ड दिया गया. शूटर विजय चौधरी इसी नाम से जाना जाता था, इसलिए कोड वर्ड में उसका नाम ‘उस्मान’ रखा गया था. पुलिस ने उस्मान को भी एनकाउंटर में मार गिराया था.

‘गॉड मदर’ से बनी ‘साईंबाबा’
शूटआउट में माफिया अतीक अहमद की पत्नी शाइस्ता परवीन ने भी अहम भूमिका निभाई थी. वह साजिश वाली बैठकों में शामिल भी होती थी. इसी वजह से पहले उसे ‘गॉड मदर’ कोड एलॉट किया गया था. हालांकि ‘गॉड मदर’ कोड से किसी महिला के बारे में बातचीत किए जाने का एहसास होता है, इसलिए बाद में शाइस्ता परवीन का कोड बदल दिया गया और उसे ‘गॉड मदर’ के बदले ‘साईं बाबा’ कोड वर्ड से पुकारा जाने लगा. वह अभी भी फरार है.

अतीक की पत्नी शाइस्ता का कोड नेम था ‘साईंबाबा’.लंगड़ा, मुनीम और डॉक्टर भी
अतीक के परिवार के अकाउंट का काम देखने वाले आसाद कालिया का भी उमेश पाल मर्डर केस में अहम रोल था. आरोप है कि आसाद कालिया ने ही शूटर साबिर को राइफल मुहैया कराई थी. उसे कमर में दर्द रहता है. इस वजह से वह अक्सर तेज नहीं चल पाता है. इसके चलते आसाद कालिया को ‘लंगड़ा’ नाम दिया गया था. अतीक के मुंशी को ‘मुनीम’ कोड वर्ड दिया गया था. बहनोई डॉक्टर अखलाक अहमद पेशे से चिकित्सक है, लिहाजा उसे ‘डॉक्टर’ कोड वर्ड दिया गया था. 6 मार्च को पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया था.

असद की बहन आयशा नूरी थी ‘मैडम’
अतीक के घर से मिले रजिस्टर में ‘मैडम’ नाम का भी जिक्र था. पुलिस की जांच में सामने आया था कि अतीक की बहन आयशा नूरी को ‘मैडम’ कहा जाता था. आयशा को भी उमेश पाल हत्याकांड में आरोपी बनाया गया है. उस पर उमेश के शूटरोंं को भगाने में मदद करने का आरोप है. साथ ही उसकी दो बेटियों को भी इसी मामले में आरोपी बनाया गया है.

कुछ नाम पुलिस सस्पेंस बरकरार
पंडित, तोता, बल्ली, माया, शेरू रसिया ये कुछ कोड नेम अभी डीकोड होना बाकी हैं. पुलिस पता लगा रही है कि यह नाम किनके हैं और इन लोगों का उमेश पाल हत्याकांड में क्या रोल है.

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें  Facebook, Twitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login- www.abcnews.media