आज से शुरू हो रहे है गुप्त नवरात्र , जानें घटस्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त व पूजन विधि 

News

ABC NEWS: नवरात्र के व्रत साल में 4 बार रखे जाते हैं. दो बार गुप्त नवरात्र और दो बार सामान्य नवरात्र रखी जाती है. इस बार माघ महीने की गुप्त नवरात्र 10 फरवरी यानी आज से शुरू होने जा रही है और इनका समापन 18 फरवरी को होगा. हिंदू पंचांग के अनुसार, गुप्त नवरात्र माघ महीने के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से नवमी तक चलती है.

गुप्त नवरात्र की पूजा के नौ दिनों में मां दुर्गा के नौ स्वरुपों की पूजा की जाती है. माना जाता है कि नवरात्र के इन दिनों में, देवी दुर्गा अपने भक्तों की हर मुराद पूरी कर उन्हें हर प्रकार के दुःख और दर्द से निजात दिलाती है. यही मुख्य कारण है कि इस दौरान दुनियाभर में देवी दुर्गा के मंदिरों में, मां के भक्तों की भीड़ उमड़ी रहती है.

गुप्त नवरात्र घटस्थापना मुहूर्त 
गुप्त नवरात्र का आज घटस्थापना का मुहूर्त सुबह 8 बजकर 45 मिनट से लेकर सुबह 10 बजकर 10 मिनट तक रहेगा. जिसकी कुल अवधि 1 घंटे 25 मिनट की रहेगी.

घटस्थापना अभिजीत मुहूर्त- आज दोपहर 12 बजकर 13 मिनट से लेकर दोपहर 12 बजकर 58 मिनट तक
प्रतिपदा तिथि की शुरुआत 10 फरवरी यानी आज सुबह 4 बजकर 28 मिनट तक रहेगी और प्रतिपदा तिथि का समापन 11 फरवरी को रात 12 बजकर 47 मिनट तक रहेगी.

गुप्त नवरात्र पूजन विधि 
गुप्त नवरात्र में घट स्थापना उसी तरह की जाती है जिस तरह से चैत्र और शारदीय नवरात्र में होती है. इन नौ दिनों में सुबह-शाम मां दुर्गा की पूजा की जाती है साथ ही लौंग और बताशे का भोग जरूर लगाना चाहिए. साथ ही मां को श्रृंगार का सामान भी अर्पित करें. इस दौरान दुर्गा सप्तशती का पाठ जरूर करें. इन नौ दिनों में मां को आक, मदार, दूब और तुलसी बिल्कुल नहीं चढ़ाना चाहिए.

गुप्त नवरात्र के दिन करें इन मंत्रों का जाप 
पौराणिक काल से ही लोगों की आस्था गुप्त नवरात्र में रही है. गुप्त नवरात्रि में शक्ति की उपासना की जाती है ताकि जीवन तनाव मुक्त रहे. माना जाता है कि इस दौरान मां शक्ति के खास मंत्रों के जाप से किसी भी समस्या से मुक्ति पाई जा सकती है या किसी सिद्धि को हासिल किया जा सकता है.

सिद्धि के लिए ॐ एं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चै, ऊं क्लीं सर्वाबाधा विनिर्मुक्तो धन्य धान्य सुतान्यवितं, मनुष्यों मत प्रसादेंन भविष्यति न संचयः क्लीं ॐ, ॐ श्रीं ह्रीं हसौ: हूं फट नीलसरस्वत्ये स्वाहा आदि विशेष मंत्रों का जप किया जा सकता है. गुप्त नवरात्रि के दिन मां दुर्गा के अर्गला स्त्रोत का पाठ करना चाहिए. अर्गला स्त्रोत का पाठ करने से भक्त की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है. साथ ही दुर्गा चालीसा का पाठ भी करना चाहिए. गुप्त नवरात्रि में पूजा पाठ करने से भक्त को रोग और शत्रु से मुक्ति मिलती है.

गुप्त नवरात्र के खास उपाय 
1. घर में अगर कोई बीमार है तो मां दुर्गा को लाल फूल अर्पित करना चाहिए.

2. गुप्त नवरात्र में घर में सोने, चांदी का सिक्का अवश्य लेकर आएं. मान्यता है कि ऐसा करने से व्यक्ति के जीवन में धन और समृद्धि में बढ़ोतरी होती है.

3. जिन लोगों की आर्थिक स्थिति सही नहीं है उन्हें गुप्त नवरात्र में 9 दिनों तक मां दुर्गा को गुग्गल की सुगंधित धूप अर्पित करनी चाहिए.

4. गुप्त नवरात्र के दौरान घर में मोर पंख लाना शुभ माना जाता है.

गुप्त नवरात्र पर न करें ये कार्य 
1. इस दिन बाल और नाखून काटने से बचना चाहिए.

2. इस दिन सात्विक भोजन ग्रहण करना चाहिए. भूल से भी इस दिन तामसिक भोजन ग्रहण न करें.

3. इस दिन ब्रह्मचर्य का पालन आवश्य करना चाहिए.

4. गुप्त नवरात्र में चमड़े से बनी किसी भी चीज का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें  Facebook, Twitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login- www.abcnews.media