सत्यपाल मलिक की गिरफ्तारी की सोशल मीडिया पर फैली चर्चा, क्या बोली दिल्ली पुलिस?

News

ABC NEWS: जम्मू-कश्मीर के पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक इन दिनों लगातार चर्चा में बने हुए हैं. वह शनिवार को अचानक सोशल मीडिया पर ट्रेंड करने लगे. दरअसल, वह अपने समर्थकों के साथ दिल्ली के आरके पुरम पुलिस थाने पहुंच गए. इसके बाद किसान नेता गुरनाम सिंह चढूनी ने ट्वीट कर कहा कि उनको और सत्यपाल मलिक को सभी समर्थकों के साथ दिल्ली के आरके पुरम में गिरफ्तार कर लिया गया है. यह खबर वायरल हो गई। इसके बाद दिल्ली पुलिस को बयान जारी कर कहना पड़ा कि उसने जम्मू-कश्मीर के पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक को हिरासत में नहीं लिया है.

पुलिस उपायुक्त (दक्षिण-पश्चिम) मनोज सी (Manoj C) ने कहा- मलिक अपने समर्थकों के साथ आरके पुरम पुलिस थाने में अपनी इच्छा से आए थे. हमने उन्हें बोल दिया है कि वह जा सकते हैं। वहीं एक अन्य अधिकारी ने बताया कि आरके पुरम के एक एमसीडी पार्क में एक बैठक होनी थी. मलिक को इस बैठक में हिस्सा लेना था. मलिक को बताया गया कि यह बैठक करने की जगह नहीं है. इसके लिए उन्होंने संबंधित अधिकारियों से कोई अनुमति ली थी. इसके बाद मलिक और उनके समर्थक वहां से चले गए. बाद में पूर्व राज्यपाल खुद पुलिस स्टेशन पहुंच गए. हमने उन्हें बुलाया नहीं था.

दिल्ली पुलिस ने ट्वीट कर कहा- सत्यपाल मलिक की हिरासत के बारे में झूठी खबर फैलाई जा रही है. सत्यपाल मलिक को हिरासत में लेने के संबंध में कई सोशल मीडिया हैंडल पर गलत सूचना फैलाई जा रही है. वह खुद आर के पुरम थाना अपने समर्थकों के साथ पहुंचे. उन्हें बोल दिया गया है कि वह अपनी मर्जी से कभी भी जा सकते हैं. मालूम हो कि जम्मू-कश्मीर के पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक बिहार, जम्मू-कश्मीर, गोवा और मेघालय में राज्यपाल पद की जिम्मेदारी निभा चुके हैं.

इस बीच सीबीआई ने सत्यपाल मलिक को तलब किया है। इस पर सियासत गर्म है. विपक्षी दल सत्यपाल मलिक के प्रति सहानुभूति और समर्थन जताने लगे हैं. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को कहा कि मलिक ने भय के समय बहुत साहस दिखाया है. पूरा देश उनके साथ है। दरअसल, सीबीआई ने मलिक से जम्मू-कश्मीर में हुए कथित बीमा घोटाले के सिलसिले में कुछ सवालों के जवाब मांगे हैं. वहीं मलिक ने ट्वीट कर कहा है कि मैंने सच बोलकर कुछ लोगों के पापों का पर्दाफाश किया है. शायद इसी वजह से ऐसा किया जा रहा है. मैं किसान का बेटा हूं, मैं घबराऊंगा नहीं.

समाचार एजेंसी की रिपोर्ट के मुताबिक, सीबीआई ने सरकारी कर्मचारियों के लिए समूह चिकित्सा बीमा योजना के ठेके देने और जम्मू-कश्मीर में किरू पनबिजली परियोजना से संबंधित 2,200 करोड़ रुपये के परियोजना में सत्यपाल मलिक द्वारा लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोपों के संबंध में दो प्राथमिकियां दर्ज की है. मलिक ने दावा किया था कि 23 अगस्त, 2018 और 30 अक्टूबर, 2019 के बीच जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल के रूप में उनके कार्यकाल के दौरान दो फाइलों को मंजूरी देने के लिए उन्हें 300 करोड़ रुपये के रिश्वत की पेशकश की गई थी.

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें  Facebook, Twitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login- www.abcnews.media