“शराब और रफ्तार ने ली 26 जानें”:लोग बोले- शराब पीकर ट्रैक्टर चला रहा था

Spread the love

ABC NEWS: कोरथा गांव के 26 लोग कानपुर हादसे में जान गंवा देते हैं. गांव में रविवार सुबह लाशें पहुंचने का सिलसिला शुरू होते ही लोगों का गुस्सा फट जाता है. वो कहते हैं कि हादसे की वजह ‘शराब और रफ्तार’ थी. राजू निषाद के बेटे का मुंडन संस्कार था. राजू ने खुशी में उन्नाव में मंदिर जाने के दौरान शराब पी थी. फिर लौटते हुए भी दोबारा शराब पीता रहा. मना करने के बावजूद ट्रैक्टर वही चला रहा था.

साढ़ और गंभीरपुर गांव के बीच रास्ते में मिट्‌टी में गड्‌ढा था. अचानक सामने से बाइक भी आ गई. ट्रैक्टर तेज रफ्तार में था. राजू काबू नहीं रख सका. फिर जाने राजू को क्या हुआ, एक तरफ ट्रैक्टर-ट्राली पलटने लगा. महिलाएं और बच्चे तालाब में गिर गए. मगर ड्राइवर राजू बच गया है. फिलहाल वो भागा हुआ है। अगर मिल गया तो छोड़ेंगे नहीं….

दरअसल, साढ़ इलाके के कोरथा गांव में रहने वाले राजू निषाद के 1 साल के बेटे का मुंडन संस्कार होना था. उन्नाव बक्सर के चंद्रिका देवी मंदिर में मुंडन संस्कार का आयोजन किया गया था. गांव की 45 महिलाएं और बच्चे मुंडन संस्कार में शामिल होने के लिए ट्रैक्टर ट्रॉली से निकले थे.

गांव के लोगों का कहना था कि चाय-नाश्ता के बहाने राजू ने ट्रैक्टर-ट्राली रोकी थी. वहां उसने शराब पी. अगर ऐसा नहीं होता तो शायद ये हादसा ही नहीं होता.

2 बेटी के बाद ज्ञानवती ने मांगी थी बेटे की मन्नत

ज्ञानवती की 2 बेटियां हुईं थी. डेढ़ साल पहले उन्होंने मन्नत मांगी कि बेटा होने पर चंद्रिका देवी आएंगे. बेटा हुआ, तो उन्होंने नवरात्रि में मुंडन संस्कार कराने की तैयार की. मगर हादसा होने के बाद वही 7 महीने का बेटा अभि हैलट अस्पताल की इमरजेंसी में भर्ती है. वहीं ज्ञानवती ने अपनी बेटी दिया और सास जानकारी को हादसे में खो दिया है.

ज्ञानवती की बहन रामवती की बेटी रचना की भी हादसे में मौत हो गई है. उसके परिवार में अन्य 3 बहनों की भी मौत हो चुकी है. ज्ञानवती के परिवार के 12 लोगों की मौत हुई है. हादसे के बाद परिवार पूरी तरह टूट चुका है और बदहवास है. ज्ञानवती ने बताया कि मेरे पति राजू का कोई पता नहीं है. जब ट्रॉली पलटी तो लगा कि कुछ के हाथ-पैर टूटे होंगे, नहीं जानती थी कि इतने लोगों की मौत हो जाएगी.

गांव वाले बोले- राजू मिल गया तो मार डालेंगे
हादसे का मुख्य आरोपी राजू निषाद मौके से भाग निकला. जबकि उसकी पत्नी ज्ञानदेवी गंभीर हालत में हैलट में भर्ती हैं. हादसे के बाद से गांव के लोगों में ट्रैक्टर चालक राजू के प्रति जबरदस्त आक्रोश है.

दिल दहला देने वाला हादसा के बाद गांव में हर तरफ मातम छाया हुआ है. हर किसी के दरवाजे पर महिलाएं सिसकियां भर रही हैं, पुरुष भी अपने आंसू रोक नहीं सके। एक भी घर में चूल्हा नहीं जला. सुबह 4:30 बजे एक-एक करके भीतर गांव सीएचसी से शवों को कोरथा गांव भेजने का सिलसिला जारी हो गया. गांव में शव पहुंचते ही चीत्कार मच गई. जैसे-जैसे सभी शव पहुंचते गए पूरा गांव मातम में डूब गया. किसी के पत्नी की हादसे में मौत हो गई तो किसी ने अपने इकलौते चिराग को खो दिया. तो किसी का पूरा परिवार ही उजड़ गया. हर तरफ गम, गुस्सा और चीत्कार मची हुई थी. हर कोई अपने के बिछड़ने की बात को विश्वास नहीं कर पा रहा था. कोई लिपट कर रोता दिखा तो कोई तो कोई यह कह रहा था कि बेटा एक बार आंख खोल दो बस… अम्मा देखो इंतजार कर रही है. हम लोग दशहरा मेला देखने चलेंगे….

एक साथ अंतिम संस्कार की तैयारी प्रशासन करवा रहा

कमिश्नर राजशेखर, डीएम विशाख जी. अय्यर, ADG भानु भास्कर, IG प्रशांत कुमार समेत अन्य अफसर मौके पर पहुंचे. आपस में बातचीत के बाद तय हुआ कि भीतरगांव सीएचसी में ही सभी शव का पोस्टमॉर्टम कराने के बाद शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया जाएगा. इसके बाद 10 डॉक्टरों के पैनल ने हादसे में जान गंवाने वाले 26 महिलाएं और बच्चों का पोस्टमॉर्टम किया. करीब 4:30 बजे पोस्टमॉर्टम के बाद पहला शव गांव भेजा गया. इसके बाद धीरे-धीरे सभी शवों को गांव में भेज गया. सभी के एक साथ अंतिम संस्कार करने का प्रबंध प्रशासनिक अफसरों की ओर से किया गया.

हादसे की होगी मजिस्ट्रेट जांच
ADC कानपुर भानु भाष्कर ने बताया कि हादसे में 26 लोगों की मौत हुई है. हादसे की वजह क्या थी। यह जानने के लिए मजिस्ट्रेट जांच का आदेश किया गया है. जांच के बाद ही साफ हो सकेगा कि आखिर हादसे की मुख्य वजह क्या थी. इसी आधार पर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें  Facebook, Twitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login- www.abcnews.media