एक्शन में योगी सरकार, मुख्तार अंसारी पर गैंग्स्टर का मुकदमा, पत्नी और साले को नोटिस

ABC News: यूपी में दोबारा सत्ता में आई योगी सरकार एक बार फिर से एक्शन में आ गई है. पिछली सरकार में अपराधियों पर कसा गया शिकंजा एक बार फिर शुरू हो गया है. जिसके चलते गाजीपुर में मुख्तार अंसारी की पत्नी आफ्शां अंसारी और सालों की मुसीबतें फिर से बढ़ने लगी हैं. नंदगंज थाने के फतेउल्लाहपुर में सरकारी जमीन पर अतिक्रमण कर गोदाम बनाने के मामले में पुलिस तीनों को तलब किया है. विवेचक के समक्ष प्रस्तुत नहीं होने और बयान नहीं दर्ज कराने के आरोप में मुख्तार के सहयोगियों को भी बयान देने के लिए बुलाया गया है.

मुख्तार अंसारी की पत्नी अफ्शा अंसारी, साले आतिफ रजा व अनवर सज्जाद ने सहयोगियों के साथ मिलकर नंदगंज के फतेउल्लाहपुर में गोदाम बनाने में सार्वजनिक उपयोग की जमीन पर कब्जा कर लिया था. प्रशासनिक टीम ने अवैध निर्माण पर बुलडोजर चलवाकर जमीन को कब्जामुक्त कराया था. इसके बाद तालाब पर बने सार्वजनिक रास्ते को भी खोदकर तालाब की भूमि को पूरा किया. मामले में नंदगंज के दर्जी मोहल्ले की अफ्शा अंसारी, महरूपुर के मुख्तार अंसारी के साले आतिफ रजा व अनवर सहजाद तथा उनके सहयोगी डोमनपुरा के रवींद्र नारायण सिन्हा के विरुद्ध मुकदमा पंजीकृत कर जांच कार्य शुरू किया गया. विवेचक ने पर्चा काटकर कोर्ट में दाखिल कर दिया, बताया कि आरोपियों ने विवेचक के तमाम प्रयास के बावजूद अपना बयान दर्ज नहीं कराया. रविवार को पुलिस ने अवैध कब्जे के मामले में बयान देने के लिए मुख्तार की पत्नी समेत सभी आरापियों नोटिस तामीला की कार्रवाई की. विवेचक थानाध्यक्ष नंदगंज पुलिस बल के साथ आरोपितों के आवास पर पहुंचे. आरोपितों के नहीं मिलने पर कोर्ट का नोटिस चस्पा किया. पुलिस रवींद्र नारायण सिन्हा के डोमनपुरा आवास पर भी पहुंची और कोर्ट नोटिस तामिल कराया गया. नंदगंज थानाध्यक्ष देवेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि मामले के आरोपितों को बयान के लिए कई बार बुलाया गया लेकिन वह नहीं पहुंचे. अब उन्हें नोटिस देकर 30 मार्च को विवेचक के समक्ष प्रस्तुत होकर बयान दर्ज कराने का निर्देश दिया गया है.


वहीं, बाराबंकी में पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी पर पुलिस ने गैंगस्टर का मुकदमा लिखा है. मुख्तार खिलाफ जिले में यह दूसरा मुकदमा है. गैंगस्टर के मुकदमे में मऊ, गाजीपुर, लखनऊ और प्रयागराज के 12 सदस्यों को भी नामजद किया गया है. यह आरोपित बहुचर्चित एंबुलेंस प्रकरण में जेल भेजे जा चुके हैं. गाजीपुर जिले के मोहम्मदाबाद के यूसुफपुर के मूल निवासी व मऊ के पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी पर यह मुकदमा नगर कोतवाल सुरेश पांडेय ने लिखाया है. इसमें मऊ जिले के बलियामऊ मोड़ पर स्थित श्याम संजीवनी अस्पताल एंड रिसर्च सेंटर की संचालिका डा. अलका राय, डा. शेषनाथ राय, थाना सराय लखंसी के अहिरौली के राजनाथ यादव, ग्राम सरवां के आनंद यादव, गाजीपुर जिले के मोहम्मदाबाद के मंगलबाजार यूसुफपुर के सुरेंद्र शर्मा, सैदपुर बाजार मुहल्ला रौजा के मो. शाहिद, फिरोज कुरैशी, अफरोज उर्फ चुन्नू, जफर उर्फ चंदा, सलीम, प्रयागराज के थाना करेली के वसिहाबाद सदियापुर के मो. सुहैब मुजाहिद और लखनऊ के वजीरगंज थाना के लारी हाता कालोनी का मो. जाफरी उर्फ शाहिद शामिल हैं.

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें  Facebook, Twitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login- www.abcnews.media