जम्मू में आजाद, हुड्डा, सिब्‍बल और तिवारी का एक साथ होना क्या गुल खिलायेगा ?

ABC NEWS: सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखकर गांधी परिवार को कठघरे में ला चुके कांग्रेस के कई दिग्गज एक बार फिर पार्टी हाईकमान को सीधी चुनौती देने के मूड में नजर आ रहे हैं. मंच चुना गया है शनिवार को जम्मू में गांधी ग्लोबल फैमिली के शांति सम्मेलन का, पर यह तय है कि निशाना गांधी परिवार होने जा रहा है. जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री गुलाम नबी आजाद समेत हरियाणा, पंजाब, हिमाचल और मध्यप्रदेश के आधा दर्जन से अधिक दिग्गज कांग्रेसी शुक्रवार को ही जम्मू में पहुंच गए.

खास बात यह है कि यह नेता ऐसे समय में जम्मू एकत्रित हुए हैं जब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी तमिलनाडु में चुनाव प्रचार को गति देने जा रहे हैं. हालांकि राज्यसभा का कार्यकाल समाप्त होने के बाद पहली बार जम्मू पहुंचे गुलाम नबी आजाद ने एक बार फिर शुक्रवार को भाजपा में जाने से इन्कार कर दिया पर पार्टी के दिग्गजों के जमावड़े से साफ है कि यह गुट भविष्य में भी गांधी परिवार की चुनौती बढ़ाने वाला है.

DJH- »éÜæ× ÙÕè ¥æÁæÎ ßæãUÙ âð ÕæãUÚU çÙ·¤Ü·¤ÚU ·¤æØü·¤Ìæü¥ô¢ ·¤æ ¥çÖßæÎÙ Sßè·¤æÚU ·¤ÚUÌð ãUé°Ð

बताया जा रहा है कि यह नेता राहुल गांधी द्वारा गत दिनों तिरुवंतपुरम में दिए गए भाषण से भी नाराज हैं. राहुल गांधी ने अपने भाषण में उत्तर भारत की सियासत और सियासतदानों पर ही सवाल खड़े करते हुए कहा था कि मैं बीते 15 साल तक उत्तर भारत से  सांसद था. मैंने दक्षिण भारत के लोगों को मुद्दों पर सरसरी नहीं बल्कि गहन और गूढ़ चर्चा में शामिल देखा है. मेरे लिए केरल आना, बहुत अच्छा रहा है. उनके इस बयान को उत्तर और दक्षिण के बीच दरार पैदा करने वाला माना जा रहा है. खास बात यह है कि यह सभी उत्तर भारत से ही संबंध रखते हैं.

ये नेता पहुंचे
जम्मू पहुंचे कांग्रेस के नेताओं में गुलाम नबी आजाद के अलावा कांग्रेस के आधा दर्जन दिग्‍गज शामिल हैं. आजाद कई सरकारों में केंद्र में मंत्री रहे हैं और स्‍वयं जम्‍मू कश्‍मीर के मुख्‍यमंत्री रह चुके हैं.
कपिल सिब्बल – पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्‍ठ अधिवक्‍ता। कई मामलों में कांग्रेस की पैरवी करते रहे हैं.
भूपेंद्र सिंह हुड्डा – हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री और जाट सियासत के प्रमुख केंद्र. उनके बेटे राज्‍यसभा सदस्‍य हैं.
राज बब्बर – फिल्‍म अभिनेता से सियासत में आए. यूपी कांग्रेस के अध्‍यक्ष रह चुके हैं.
आनंद शर्मा – पूर्व केंद्रीय मंत्री, विदेश मामलों के जानकार
मनीष तिवारी – पूर्व केंद्रीय मंत्री, पंजाब की सियासत में फिलहाल स्‍वयं को हाशिए पर महसूस कर रहे हैं.
विवेक तनखा – मध्यप्रदेश से राज्यसभा सदस्य.

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें  Facebook, Twitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login- www.abcnews.media