23 मई को शुक्र का राशि परिवर्तन, इन तीन राशियों के लोगों को रहना होगा सतर्क

ABC NEWS: शुक्र का राशि परिवर्तन(Shukra Rashi Parivartan) 23 मई को होने जा रहा है. भौतिक सुख, विलासितापूर्ण जीवन, प्रेम आदि के प्रतीक शुक्र का गोचर (Shukra Gochar) मेष राशि में होने वाला है. शुक्र का मीन से मेष राशि में प्रवेश 23 मई को रात 08:39 बजे होगा. शुक्र का राशि परिवर्तन कुछ राशि के जातकों के भाग्य को बढ़ाने वाला साबित होगा, तो कुछ राशि के लोगों के लिए नई तरह की चुनौतियां लेकर आएगा. शुक्र के सकारात्मक प्रभाव से आय में वृद्धि, नौकरी में प्रमोशन, बिजनेस में उन्नति, लव मैरिज, रोमांस में वृद्धि आदि देखा जाता है, वहीं शुक्र का नकारात्मक प्रभाव इसका विपरीत परिणाम देता है. शुक्र के नकारात्मक प्रभाव से आर्थिक स्थिति खराब हो सकती है और फिजूलखर्ची भी बढ़ सकती है. श्री कल्लाजी वैदिक विश्वविद्यालय के ज्योतिष विभागाध्यक्ष डॉ. मृत्युञ्जय तिवारी से जानते हैं शुक्र के राशि परिवर्तन के कारण किन राशि के जातकों को सतर्क रहने की जरूरत है-

शुक्र गोचर 2022 प्रभाव

वृष: शुक्र का राशि परिवर्तन वृष राशि के जातकों के लिए फिजूलखर्ची को बढ़ाने वाला साबित हो सकता है. इसकी वजह से आर्थिक स्थिति गड़बड़ हो सकती है. खर्चों में बढ़ोत्तरी होने के कारण बचत प्रभावित होगा. शुक्र गोचर का प्रभाव आपकी सेहत पर पड़ सकता है. अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें और संतुलित खान पान अपनाएं.

कन्या: शुक्र का मेष राशि में गोचर करने से आपके पारिवारिक रिश्ते प्रभावित हो सकते हैं. इस दौरान आपके पिता का स्वास्थ्य खराब हो सकता है, उनकी सेहत का ध्यान रखना होगा. आप अपनी माता जी से किसी बात को लेकर वाद विवाद न करें. अपनी वाणी पर नियंत्रण रखें अन्यथा माता से रिश्ते प्रभावित हो सकते हैं. किसी बात को लेकर अस्पष्टता हो, तो उसे स्वयं स्पष्ट करें, नहीं तो गलतफहमी के कारण समस्याएं बढ़ सकती हैं.

वृश्चिक: शुक्र का राशि परिवर्तन वृश्चिक राशि के जातकों के लिए करियर या बिजनेस में सतर्क रहने की स्थिति पैदा कर रही है. यदि आप बिजनेस करते हैं तो आपके लिए चुनौतियां बढ़ सकती हैं. आपको हानि पहुंचाने की कोशिश हो सकती है, इसलिए सतर्क रहने की जरूरत है. बिजनेस से जुड़े फैसलों में गोपनीयता बनाए रखें.

मीन: इस राशि के जातकों को शुक्र के गोचर के कारण पारिवारिक संबंधों में उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकता है. परिवार के किसी सदस्य की तबीयत खराब होने से आर्थिक बोझ आप पर पड़ सकता है. इस वजह से आर्थिक स्थिति बिगड़ सकती है. आपको इस दौरान फिजूलखर्ची पर नियंत्रण करना होगा. गलतफहमी के कारण वाद विवाद की स्थिति बन सकती है.

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें  Facebook, Twitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login- www.abcnews.media