कानपुर जू के कटखने बंदर पकड़े गए, मार्निंग वाकर्स व दर्शकों पर कर रहे थे हमला

Spread the love

ABC NEWS: कानपुर चिड़ियाघर परिसर में मार्निंग वाकर्स व दर्शकों पर हमला करने वाले पांच कटखने बंदरों को वन विभाग के कर्मचारियों ने बुधवार को पकड़ लिया. कर्मचारियों ने पूरे दिन अभियान चलाया। पकड़े जाने के डर से बंदर कैंटीन से दूर पेड़ों पर बैठे रहे जिससे दर्शक पूरा दिन बेफिक्र होकर चिड़ियाघर घूमे. निदेशक केके सिंह ने रेंजर नावेद इकराम को वन कर्मियों के साथ बंदर पकड़ने का अभियान चलाने के निर्देश दिए. रेंजर ने टीम के साथ सुबह से कैंटीन के आसपास जाल बिछाकर बंदरों को पकड़ना शुरू किया. दर्शक को काटने की नीयत से दौड़ने वाले बंदरों को पकड़कर पिंजड़े में कैद किया गया. रेंजर नावेद इकराम ने बताया कि बंदर पकड़ने के लिए तीन दिन तक अभियान चलाया जायेगा. पहले दिन पांच कटखने बंदर पकड़े हैं. ये अभियान दो दिन और चलायेंगे. मार्निंग वाकर्स व दर्शकों को बंदरों की वजह से कोई दिक्कत नहीं होने दी जायेगी.

मार्निंग वाकर्स ने सुबह की सैर जंगल सफारी में की : चिड़ियाघर परिसर में सुबह के समय सैर करने वाले लोगों के लिए जेब्रा प्वाइंट की तरफ रास्ता बंद कर दिया गया. निदेशक केके सिंह के निर्देश के बाद तीन दिन के लिए अस्थायी तौर पर जंगल सफारी को खोल दिया गया है. सुबह के समय सैर करने पहुंचे मार्निंग वाकर्स सुबह पांच से आठ बजे के अंतराल में जंगल सफारी में सैर करने की सुविधा दी गई है. मार्निंग वाकर्स एसोसिएशन बीके शर्मा ने निदेशक द्वारा जंगल सफारी खोलने का फैसले लिए जाने के फैसले की सराहना की.

कूड़ादान सफाई में न बरतें लापरवाही चिड़ियाघर सुबह खुलने से पहले और शाम को बंद होने के बाद सफाई कर्मियों द्वारा कूड़ादान साफ न करने की शिकायत को प्रशासन ने गंभीरता से लिया है. अधिकारी ने कर्मचारियों को कहा है कि परिसर सुबह खुलने से पहले व शाम को बंद होने के बाद हर हाल में एक एक कूड़ादान से बची खाद्य सामग्री को हटा दिया जाये ताकि इस वजह से बंदरों का एकत्रीकरण न हो सके. अधिकारी ने लापरवाही बरतने वाले सफाई कर्मियों पर सख्त कार्रवाई करने की चेतावनी दी है.

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें  Facebook, Twitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login- www.abcnews.media