कानपुर जिला पंचायत अध्यक्ष की दौड़ में सपा सबसे आगे, निर्दलीय हो सकते निर्णायक

ABC NEWS: पंचायत चुनाव का परिणाम आने के बाद कानपुर जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए जोड़ तोड़ शुरू हो गया हैं. इस दौड़ में समाजवादी पार्टी सबसे आगे नजर आ रही है, वहीं भाजपा के खाते में इतनी सीटें नहीं हैं. अब सारा दारोमदार निर्दलीय प्रत्याशियों पर तय हो गया है, उनका झुकाव जिस ओर जाएगा उसी की पार्टी का अध्यक्ष बनना तय है. हालांकि सपा ने सर्वाधिक सीटें लेकर अपना दावा मजबूत कर लिया है. अभी बीरनखेड़ा में सपा के कुलदीप यादव की 127 वोटों से जीत के बाद भाजपा प्रत्याशी संतोष कश्यप ने समर्थकों के साथ दोबारा काउंटिंग की मांग की है, इसके चलते परिणाम की घोषणा रोक दी गई है.

भाजपा से जहां पूर्व मंत्री कमलरानी वरुण की बेटी स्वप्निल वरुण ने गिरसी सीट से अपनी पहली जीत दर्ज की है, यहां पर अबतक समाजवादी पार्टी का कब्जा था और पुष्पा कटियार जिला पंचायत अध्यक्ष थीं. पिछले तीन माह से पंचायत चुनाव में भाजपा नेताओं ने पूरी ताकत लगा रखी थी और इस चुनाव को विधानसभा चुनाव का सेमी फाइनल मान रहे थे. इसके बाद जिला पंचायत सीटों के परिणाम आए तो भाजपा के लिए काफी निराशाजनक रहा. कुल 32 सीटों में मात्र आठ सीटों पर जीत हासिल कर सकी है. हालांकि 10 सीटों पर भाजपा प्रत्याशी दूसरे स्थान पर रहे.

समाजवादी पार्टी एक बार फिर जिला पंचायत में सबसे मजबूत पार्टी बनकर उभरी है. सपा समर्थित 11 सदस्यों ने चुनाव जीतने से पार्टी ने एक बार फिर ग्रामीण परिवेश पर खुद को मजबूती से पेश किया. इस बार फिर से सपा ने अध्यक्ष पद की तरफ अपना कदम बढ़ा दिया है. अब निर्दलीय या बसपा का समर्थन उसे एक बार फिर यह कुर्सी दिला सकता है. बसपा ने पांच और निर्दलीयों के खाते छह सीटें गई हैं. हालांकि गठबंधन होगा या नहीं यह अभी भविष्य के गर्भ में छिपा है. सपा के प्रत्याशी छह सीटों पर दूसरे स्थान पर भी रहे.

 

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें  Facebook, Twitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login- www.abcnews.media