नागालैंड में सुरक्षाबलों की फायरिंग में 11 नागरिकों की मौत से बवाल: जवानों की गाड़ियां फूंकी; SIT करेगी जांच

ABC NEWS: नागालैंड में सुरक्षबलों की भूल के कारण 11 आम नागरिकों की मौत हो गई. इस घटना के बाद गुस्साए ग्रामीणों ने सुरक्षाबलों की गाड़ियों में आग लगा दी. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार यह घटना मोन (Mon) जिले के ओतिंग (Oting) गांव में हुई. जहां ग्रामीण एक पिक-अप ट्रक से घर लौट रहे थे. ऐसा कहा जा रहा है कि भूल से  सुरक्षाबलों ने उन पर फायरिंग कर दी. लोगों के शव को देखकर गुस्साए ग्रामीणों ने सुरक्षाबलों की गाड़ियों को आग लगा दी. इस घटना में कई लोग घायल भी हुए हैं. घटना के बाद नागालैंड के मुख्यमंत्री नेफियू रियो ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है. इसके साथ घटना की जांच विशेष जांच दल (SIT) द्वारा की जाएगी.

उग्रवादियों के होने की मिली जानकारी पर गोली चलायी
इस घटना पर कहा जा रहा है कि सिक्योरिटी फोर्सेस को इनपुट मिला था कि उस जगह पर उग्रवादी संगठन NSCN (KYA) के लोग होंगे और वहां किसी घटना को अंजाम दे सकते हैं। इसलिए ऑपरेशन प्लान किया गया.

रोकने पर नहीं रुकी गाड़ी तो सुरक्षाबलों ने की फायरिंग
इनपुट में जिस रंग की गाड़ी के बारे में बताया गया था उसी रंग की गाड़ी वहां से गुजरी. सिक्योरिटी फोर्स के लोगों ने उसे रुकने को कहा लेकिन वह गाड़ी नहीं रुकी. इसके बाद सिक्योरिटी फोर्स ने फायरिंग कर दी. बाद में जाकर देखा तो पता चला कि वे सिविलियंस हैं. इसमें करीब 11 सिविलियंस मारे गए.

एक जवान की भी हुई मौत
सूत्रों के मुताबिक इसी बीच गांव वाले उस जगह पर आ गए और सिक्योरिटी फोर्स के लोगों से हथियार छीनने लगे और गाड़ी में भी आग लगी दी. फिर फायरिंग हुई और यहां भी कुछ सिविलियंस के मारे जाने की सूचना है. सिक्योरिटी फोर्स का एक जवान भी इसमें मारा गया.

नागालैंड के सीएम नेफियू रियो ने ट्वीट किया कि ओतिंग में नागरिकों की हत्या बेहद निंदनीय है. उन्होंने उच्च स्तरीय SIT से मामले की जांच के निर्देश दिए हैं. सीएम ने कहा- एसआईटी देश के कानून के अनुसार न्याय करेगी. उन्होंने सभी वर्गों से शांति की अपील की है. हालांकि, यह फायरिंग किस तरह हुई, अभी तक इसके बारे में कोई  आधिकारिक बयान नहीं आया है. नागालैंड की स्थानीय मीडिया के अनुसार सुरक्षाबल उग्रवादियों के खिलाफ ऑपरेशन चला रहे थे. इसी दौरान घटना हुई.

गोलीबारी की इस घटना के बाद स्‍थानीय लोग घरों से बाहर निकल आए और प्रदर्शन करने लगे. उनका कहना है कि ये युवा निर्दोष थे. वे पास की कोयला खदान से घर वापस आ रहे थे. इस घटना की निंदा करते हुए मुख्‍यमंत्री नेफियू रियो (Neiphiu Rio) ने एसआईटी जांच की बात कही है. जानकारी के अनुसार घटना से नाराज लोगों ने सुरक्षा बलों के कुछ वाहनों में आग लगा दी. इस दौरान सुरक्षा बलों ने भीड़ को काबू करने के लिए फायरिंग की, जिसमें कुछ और लोगों को गोली लगने की बात सामने आ रही है.

खोजबीन शुरू की तो मिले शव 

इस घटना की जानकारी तब सामने आई जब ग्रामीण समय पर घर नहीं पहुंचे. इसके बाद उनके परिवार वालों ने खोजबीन जारी कर दी. शव मिलने के बाद ग्रामीणों में आक्रोश भड़क गया और उन्होंने सुरक्षाबलों की गाड़ियों को आग लगा दी. राज्य के आईपीएस अधिकारी रूपिन शर्मा ने ट्विटर पर घटना वीडियो शेयर किया है. उन्होंने लिखा-ओतिंग गांव में कई नागरिकों के मौत की खबर है. इसमें सुरक्षाबल शामिल हैं. उन्होंने गाड़ियों में आग की तस्वीरों को शेयर भी किया, मगर बाद में वीडियो डिलीट कर दिया.

 

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें  Facebook, Twitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login- www.abcnews.media