14 को आ सकते हैं पीएम मोदी, कल केंद्रीय और प्रदेश सरकार के मंत्री देखेंगे गंगा की हकीकत

ABC News: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के जाने के बाद अब नगर निगम अफसर प्रधानमंत्री के दौरे की तैयारियों में जुट गए हैं. गंगा संरक्षण पर होने वाले कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 14 दिसंबर को कानपुर आ रहे हैं. इसको लेकर जहां गंगा बैराज से रानीघाट तक सफाई अभियान शुरू हो गया. वहीं रानीघाट बस्ती से गंगा में गिरने वाली नालियों को टेप किया गया. इसके अलावा कल केंद्रीय जलशक्ति मंत्री के अलावा प्रदेश सरकार के मंत्री और अफसर भी बैराज के अटल घाट से सिद्धनाथ घाट तक गंगा में गिरने वाले नालों को देखेंगे. इसको लेकर देर शाम तक तैयारियों का क्रम चलता रहा.

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के दो दिनों के कानपुर प्रवास के बाद प्रशासनिक, पुलिस से लेकर नगर निगम अफसर थोड़ा सुकून पाए ही थे कि अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कानपुर दौरे को लेकर तैयारियां शुरू हो गई हैं. 14 दिसंबर को गंगा संरक्षण के कार्यक्रम में शामिल होने कानपुर आ रहे प्रधानमंत्री के इस दौरे को काफी अहम माना जा रहा है. इस कार्यक्रम में सात प्रदेशों के मुख्यमंत्री भी शामिल हो सकते हैं. ऐसे में कानपुर की गंगा को साफ रखना स्थानीय अफसरों के लिए बड़ी चुनौती है. प्रधानमंत्री के इस दौरे से पहले मंगलवार को कानपुर में केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, प्रदेश के नगर विकास मंत्री आशुतोष टंडन, सिंचाई मंत्री एवं जलसंसाधन मंत्री महेंद्र सिंह, प्रमुख सचिव नगर विकास मनोज कुमार सिंह के साथ नेशनल मिशन फॉर क्लीन गंगा के अधिकारी भी रहेंगे.

स्पेशल बोट से बैराज से सिद्धनाथ घाट तक होगा निरीक्षण
केंद्रीय मंत्री के साथ प्रदेश सरकार के मंत्री और अफसर मंगलवार को बैराज के अटल घाट से सिद्धनाथ घाट तक गंगा में गिर रहे नालों का निरीक्षण करेंगे. इसके लिए बनारस से 25 सीटर स्पेशल बोट भी कानपुर आ गई है. गौरतलब हो कि कुछ दिनों पहले नेशनल मिशन फॉर क्लीन गंगा के महाप्रबंधक और प्रमुख सचिव नगर विकास के निरीक्षण में जहां सीसामउ नाला गंगा में गिरते मिला था, वहीं अन्य नाले भी गंगा को प्रदूषित कर रहे थे. इसी तरह अस्पताल घाट, परमट आदि में काफी गंदगी मिली थी. इसको लेकर घाटों के आसपास दिनभर सफाई का काम चलता रहा.

रानीघाट में नालियों को टेप करने का काम किया गया
पिछले दिनों निरीक्षण में रानीघाट बस्ती से नालियों का गंदा पानी सीधे गंगा में जाते हुए मिला था. इसके बाद सोमवार को रानीघाट, सरसैयाघाट समेत अन्य जगहों पर गंगा में गिरने वाली नालियों को बंद करने का काम किया गया. अफसरों की यही कोशिश रही कि गंगा में गिरने वाली कोई भी नाली केंद्रीय और प्रदेश मंत्री की निगाहों में न आने पाए.


रिपोर्ट: सुनील तिवारी

यह भी पढ़ें…

अनवरगंज-मंधना ट्रैक को लेकर रेलमंत्री से मिले सांसद पचौरी, GM NCR को निर्देश

कानपुर : जब बदमाश ने दरोगा की पिस्टल छीनकर की फायरिंग फिर..

Kanpur: महज कुछ​ मिनट में हुई महिला की हत्या, पानी लेकर लौटा पति तो हुए होश फाख्ता


Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें FacebookTwitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-  ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media , Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login-  www.abcnews.media