हे भगवान! केवल 33.13 प्रतिशत मतदान, 34 वर्ष बाद गोविंदनगर में इतने कम वोट पड़े

Spread the love

ABC News: ढाई साल, दूसरा मौका राजनीतिक दल और मतदाताओं के लिए भी, सरकार से नाराजगी जताने का भी, विपक्ष को आईना दिखाने का भी, परीक्षा की घड़ी मतदाता की भी लेकिन शाम छह बजने के बाद जब मतदान के आंकड़े सामने आए, तो गोविंदनगर विधानसभा की जनता की उदासीनता ने सभी को निराश कर दिया. वजह चाहे कोई भी हो लेकिन आंकड़े बताते हैं कि 34 साल बाद गोविंदनगर में किसी विधानसभाचुनाव में इतने कम वोट पड़े हैं. शाम छह बजे तक गोविंदनगर विधानसभा में 33.13 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया. इस हिसाब से देखा जाए तो 1,11,467 मतदाताओं ने वोट डाले.

सुबह से सुस्ती शाम तक नहीं टूट पायी
गोविंदनगर विधानसभा में जब ढाई साल बाद मतदाताओं को अपनी पसंद का विधायक चुनने का दूसरा मौका मिला, तो उन पर कुछ ऐसी सुस्ती चढ़ी कि एक तिहाई को छोड़कर अन्य मतदाता अपने घरों से बाहर नहीं निकले. इस बात का पता इसी से चलता है कि मतदान शुरू होने के पहले दो घंटों में केवल सात ​फीसदी वोटरों ने ही अपने मताधिकार का प्रयोग किया. 11 बजे तक 14 फीसदी, एक बजे तक 20 फीसदी, तीन बजे तक 24 फीसदी मतदान हुआ. अंतिम तीन घंटे में जब मतदान चरम पर माना जाता है तो भी मतदाता सकुचाकर अपने घर पर ही बैठा रहा. इसी वजह से पांच बजे तक 31.10 फीसदी मतदान हुआ और शाम छह बजे तक 33.13 प्रतिशत वोटरों ने अपने वोट की ताकत का प्रयोग किया.

1985 में पड़े थे सबसे कम वोट
गोविंदनगर विधानसभा की बात की जाए, तो यहां पर वर्ष 1985 में सबसे कम वोट पड़े थे. 1985 के विधानसभा चुनावों में 63,796 वोट पड़े थे. तब कांग्रेस के विलायती राम कात्याल ने 26,060 वोट पाकर भाजपा के बालचंद्र मिश्र को 4,224 वोट के अंतर से हराया था. इसके बाद 1991 के विधानसभा चुनावों में गोविंदनगर विधानसभा में 1,22,234 वोट पड़े थे. तब भाजपा के बालचंद्र मिश्र ने कांग्रेस के अजय कपूर को 24,312 वोटों के अंतर से हराया था.

ढाई साल पहले का प्रदर्शन न दोहरा सके गोविंदनगर के मतदाता
एक समय में सबसे बड़ी विधानसभा कहलाने वाली गोविंदनगर के मतदाता मतदान के मामले में हमेशा से ही जागरूक रहे हैं. हालांकि, मतदान के मामले में प्रथम श्रेणी आना एक सपना बना रहा. बात अगर ढाई साल पहले यानि 2017 के चुनावों की बात करें तो उस समय 53.06 प्रतिशत वोट पड़े ​थे.

गोविंदनगर विधानसभा में अब तक इस तरह रहा है प्रदर्शन
वर्ष                                          जीते हुए प्रत्याशी                                                       कुल वोट पड़े
1985                             विलायती राम कात्याल                                         63,796
1989                              बालचंद्र मिश्र                                                      1,24,323
1991                              बालचंद्र मिश्र                                                      1,22,234
1993                              बालचंद्र मिश्र                                                      1,94,268
1996                              बालचंद्र मिश्र                                                      1,97,635
2002                              अजय कपूर                                                        2,08,956
2007                              अजय कपूर                                                        2,42,228
2012                              सत्यदेव पचौरी                                                    1,61,755
2017                              सत्यदेव पचौरी                                                    1,85,258


रिपोर्ट: सुनील तिवारी

यह भी पढ़ें…

कम मतदान ने उड़ाए होश, वोटर की उदासीनता ने खड़े कर दिए कई सवाल

दोपहर तीन बजे: 24 फीसदी मतदान, कुछ बूथ ऐसे जहां दोपहर तक पहुंचे सिर्फ 4 से 5 वोटर

KANPUR: अव्यवस्थाओं पर खीेझे मतदाता, ईवीएम-वीवीपैट में खराबी से मतदान प्रभावित


Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

*

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें FacebookTwitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-  ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media , Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login-  www.abcnews.media