अब किसी भी डिस्ट्रीब्यूटर से भरवा सकेंगे LPG सिलेंडर, ऐसा है प्रोसेस

ABC News: सरकार ने LPG रीफिल की पोर्टेबिलिटी को मंजूरी दे दी है. यानी अब आप अपना LPG सिलेंडर किसी भी डिस्ट्रीब्यूटर से रीफिल करवा सकेंगे. मतलब अगर आप अपनी तेल मार्केटिंग कंपनी के मौजूदा LPG डिस्ट्रीब्यूटर से खुश नहीं हैं तो आप उसकी जगह कोई दूसरा डिस्ट्रीब्यूटर चुन सकते हैं. काफी समय से इस मुद्दे पर चर्चा हो रही थी, अब इसे मंजूरी दे दी गई है.

पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय की ओर इस फैसले पर कहा गया है कि LPG ग्राहकों को यह निर्णय लेने की अनुमति दी जाए कि वे किस डिस्ट्रीब्यूटर से LPG रीफिल करवाना चाहते हैं. ग्राहक अपनी तेल मार्केटिंग कंपनी के तहत अपने पते पर डिस्ट्रीब्यूटर्स की लिस्ट से अपना “डिलीवरी डिस्ट्रीब्यूटर” चुन सकेंगे. पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर इसको चंडीगढ़, कोयंबटूर गुड़गांव, पुणे और रांची में लॉन्च किया जाएगा. जब ग्राहक LPG रीफिक करने के लिए मोबाइल ऐप/कस्मटमर पोर्टल खोलेगा और लॉग-इन करेगा तो उसे डिलीवरी डिस्ट्रीब्यूटर्स की पूरी लिस्ट दिखाई देगी साथ उनकी परफॉर्मेंस के आधार पर रेटिंग भी होगी. जिससे ग्राहक को अच्छा डिस्ट्रीब्यूटर्स चुनने में मदद मिले. इससे डिस्ट्रीब्यूटर्स पर भी अपनी परफॉर्मेंस सुधारने का दबाव बनेगा.
IOC – https://cx.indianoil.in
Bharat Gas – https://my.ebharatgas.com
HPGas – https://myhpgas.in

इस लिस्ट से किसी भी डिस्ट्रीब्यूटर को चुन सकता है, जो उसके एरिया में उपलब्ध होगा और LPG रीफिल की डिलीवरी करेगा. इससे न सिर्फ कस्टमर्स को बेहतर सेवा मिलेगी बल्कि डिस्ट्रीब्यूटर्स के बीच भी ग्राहकों को अच्छी सुविधाएं देने की एक स्वस्थ परंपरा भी शुरू होगी, जिससे उनकी रेटिंग में सुधार होगा. उसी क्षेत्र में सर्विस दे रहे दूसरे डिस्ट्रीब्यूटर्स को एलपीजी कनेक्शन के ऑनलाइन ट्रांसफर की सुविधा एलपीजी ग्राहकों को संबंधित तेल मार्केटिंग कंपनियों के वेब-पोर्टल के साथ-साथ उनके मोबाइल ऐप के जरिए दी गई है. अपने रजिस्टर्ड लॉग-इन का इस्तेमाल करते हुए ग्राहक अपने क्षेत्र में सेवारत डिस्ट्रीब्यूटर्स की लिस्ट से अपने OMC के डिस्ट्रीब्यूटर को को चुन सकते हैं और अपने LPG कनेक्शन की पोर्टिंग का विकल्प चुन सकते हैं. स्रोत वितरक के पास ग्राहक से संपर्क करने और उसे मनाने का विकल्प होता है, अगर ग्राहक आश्वस्त है, तो वह 3 दिनों के निर्धारित समय के भीतर पोर्टेबिलिटी अनुरोध को वापस ले सकता है नहीं तो कनेक्शन ऑटोमैटिक रूप से लक्षित वितरक को ट्रांसफर हो जाता है. इसलिए, ग्राहक डिस्ट्रीब्यूटरशिप पर आए बिना उसी बाजार में काम कर रही उसी कंपनी के किसी अन्य वितरक को ऑनलाइन पोर्टेबिलिटी का लाभ उठा सकता है. यह सुविधा बिल्कुल फ्री होगी. मई 2021 में OMCs ने 55759 पोर्टेबिलिटी अनुरोधों को सफलतापूर्वक पूरा किया है. इसके अलावा डिजिटल इंडिया मिशन को आगे बढ़ाते हुए, पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय के तहत ऑयल मार्केटिंग कंपनियां ग्राहकों को एक सहज डिजिटल अनुभव देने के लिए लगातार अपनी सुविधाओं में सुधार कर रही हैं. COVID-19 के कारण लगाए गए प्रतिबंधों को देखते हुए कॉन्टैक्टलेस ट्रांजैक्शन को बढ़ावा दिया गया है. तेल कंपनियों ने डिजिटल प्लेटफॉर्म के माध्यम से ग्राहकों को LPG रीफिल बुक करने और भुगतान करने में मदद करने के लिए कई डिजिटल प्लेटफॉर्म्स को अपनाया है. ग्राहक IVRS, SMS, WhatsApp, Portal और Mobile App के अलावा UMANG ऐप से भी गैस की बुकिंग कर सकते हैं. इसके अलावा Bharat Bill Pay System ऐप्स से भी बुकिंग की जा सकती है. इसके अलावा ग्राहक ई-कॉमर्स वेबसाइट्स Amazon और Paytm से गैस की बुकिंग और भुगतान कर सकते हैं

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें  Facebook, Twitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login- www.abcnews.media