मुंबई हमले के दोषी डेविड हेडली का नहीं होगा प्रत्यर्पण, अमेरिका से साफ किया इनकार

ABC News: मुंबई हमले के दोषी डेविड हेडली को भारत को सौंपेगा से अमेरिका ने साफ इनकार कर दिया है. अमेरिका का कहना है कि डेविड हेडली को भारत प्रत्यर्पित नहीं किया जा सकता है. पाकिस्तानी मूल के कनाडाई कारोबारी और हमलों के सह-साजिशकर्ता तहव्वुर राणा को प्रत्यर्पण का सामना करना होगा.

एक अमेरिकी अधिवक्ता ने राणा की जमानत याचिका का विरोध करते हुए संघीय अदालत में यह कहा. डेविड कोलमेन हेडली के बचपन के दोस्त 59 वर्षीय राणा को भारत के अनुरोध पर 10 जून को लास एंजिलिस में फिर से गिरफ्तार किया गया है. भारत ने 2008 में मुंबई में हुए आतंकवादी हमलों में राणा की संलिप्तता के लिए उसे प्रत्यर्पित करने का अनुरोध किया था. बता दें कि मुंबई हमलों में छह अमेरिकी समेत 166 लोग मारे गए थे. संघीय अभियोजकों के मुताबिक, 2006 से नवंबर 2008 के बीच राणा ने दाऊद गिलानी के नाम से पहचाने जाने वाले हेडली और पाकिस्तान में कुछ अन्य के साथ मिलकर लश्कर-ए-तैयबा तथा हरकत-उल-जिहाद-ए-इस्लामी को मुंबई में आतंकी हमलों की साजिश रचने तथा हमलों को अंजाम देने में मदद की थी. पाकिस्तानी-अमेरिकी डेविड हेडली आतंकी संगठन लश्कर से जुड़ा रहा है. वह 2008 के मुंबई हमलों के मामले में सरकारी गवाह बन गया है. अब वह हमले में भूमिका के लिए अमेरिका में 35 साल की जेल की सजा काट रहा है. बता दें कि हेडली ने मुबंई हमलों में अपनी लिप्तता को तुरंत स्वीकार कर लिया था. इसके साथ ही सभी आरोपों में दोष भी स्वीकार कर लिया था.

 अमेरिका ने राणा के प्रत्यर्पण के भारत का अनुरोध अभी दर्ज नहीं किया है. हालांकि, वह जल्द ही कर सकता है. यह साफ है कि इलिनोइस की अदालत में राणा पर जिन आरोपों पर मुकदमा चलाया गया, वे और भारत की शिकायत में लगाए गए आरोप अलग होंगे. राणा ने अपने बचाव में कहा है कि सह-साजिशकर्ता हेडली को प्रत्यर्पित नहीं करने का अमेरिका का फैसला असंगत है और उसके प्रत्यर्पण को भी रोकता है. सहायक अमेरिकी अटॉर्नी जे. ललेजियान ने लास एंजिलिस की संघीय अदालत में शुक्रवार को कहा कि राणा के विपरीत हेडली ने हमलों में अपनी लिप्तता तुरंत स्वीकार कर ली थी और सभी आरोपों में दोष भी स्वीकार कर लिया था. उन्होंने कहा कि इसलिए राणा का भारत प्रत्यर्पण नहीं किया जाएगा. राणा ने न तो दोष स्वीकारा और न ही अमेरिका के साथ सहयोग किया इसलिए उसके साथ परिस्थिति अलग है. इसलिए उसे वह लाभ नहीं मिल सकते जो हेडली को दिए गए. राणा की जमानत याचिका पर अगले हफ्ते सुनवाई होगी.


Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें  Facebook, Twitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login- www.abcnews.media