पुलिसकर्मी के लात मारने से हुई थी मनीष गुप्ता की मौत! होटल में CBI ने रिक्रिएट किया सीन

Spread the love

ABC NEWS: उत्तर प्रदेश के गोरखपुर के चर्चित कारोबारी मनीष गुप्ता हत्याकांड में सोमवार को सीबीआई की फरेंसिक टीम ने क्राइम सीन को रिक्रिएट किया. सीबीआई की रिपोर्ट में बताया गया कि पुलिसकर्मी ने मनीष गुप्ता पर लात से प्रहार किया था, जिसके बाद उनका सिर बिस्तर के हेडबोर्ड से टकराया और वह जमीन पर गिर पड़े. इसके बाद उनकी नाक से खून बहने लगा. इससे पहले कि उनका इलाज किया जाता, गुप्ता की मौत हो गई.

मामले की जांच कर रही टीम ने फरेंसिक एक्सपर्ट्स की मौजूदगी में घटना के सीक्वेंस का विश्लेषण करने के बाद रिपोर्ट तैयार की. सीन रिक्रिएशन के दौरान मनीष गुप्ता के दो दोस्त प्रदीप चौहान और हरदीप चौहान भी मौके पर मौजूद थे. दोनों घटना वाले दिन भी होटल के कमरे में उपस्थित थे. रिक्रिएशन के बाद क्राइम सीन का पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के साथ मिलान कराया गया.

बीते 2 नवंबर को सीबीआई ने 6 पुलिसकर्मियों के खिलाफ हत्या का केस दर्ज किया था. इनमें रामगढ़ ताल के इंस्पेक्टर जेएन सिंह, फलमंडी पुलिस पोस्ट के इंचार्ज अक्षय मिश्रा, सब इंस्पेक्टर विजय यादव और तीन अन्य पुलिसकर्मी शामिल थे. सभी पर आरोप है कि वे होटल के उस कमरे में जबरन घुस आए थे, जहां कारोबारी मनीष गुप्ता अपने दो दोस्तों के साथ ठहरे हुए थे. पुलिसकर्मियों ने तीनों से पहचान पत्र की मांग की, जिसको लेकर विवाद हो गया.

पुलिस ने गुप्ता और उनके दो दोस्तों के साथ मारपीट भी की. आरोप है कि पुलिस ने गुप्ता के दोस्तों को कमरे से बाहर कर दिया और फिर उन पर लात से प्रहार किया. यह घातक साबित हुआ और बाद में मनीष गुप्ता की मौत हो गई. मामले को लेकर प्रदेश में खूब बवाल मचा था.

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें  Facebook, Twitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login- www.abcnews.media