जाजमऊ: जहरीली गैस से मजदूर की मौत, टेनरी में तोड़फोड़, साथी बोले जबरन टैंक में भेजा गया

ABC News: जाजमऊ में एक बार फिर से जहरीली गैस की चपेट में आकर एक मजदूर की मौत हो गई. मजदूर की मौत के बाद भड़के परिजनों और भीड़ में टेनरी में जमकर तोड़फोड़ की. परिजन टेनरी प्रबंधन पर लापरवाही का आरोप लगा रहे हैं. तोड़फोड़ की वजह से हालात भी तनावपूर्ण हो गए. मौके पर पहुंची भारी फोर्स और अफसरों ने किसी तरह मजदूर के परिजनों को समझाबुझाकर शांत किया.

जाजमऊ के देवीगंज में रहने वाला 20 वर्षीय दिलीप कठेरिया यहां हिंदुस्तान कंपाउंड में स्थित मास टेनरी में काम करता था. बताया जा रहा है कि सुबह जब वह टेनरी आया तो उसे टेनरी के टैंक की सफाई के लिए अंदर उतार दिया गया. थोड़ी ही देर में दिलीप बेहोश होने लगा तो साथी कर्मचारियों में हड़कंप मच गया. इससे पहले कि कोई कुछ समझता, जहरीली गैस की चपेट में आकर उसकी मौत हो गई. साथी कर्मचारी उसे पास के ही अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

साथियों ने कहा जबरन भेजा गया टैंक साफ करने
दिलीप के साथियों का आरोप है कि वह लोग हाउस कीपिंग का काम करते हैं. सुबह जब उन लोगों से टैंक साफ करने के लिए भेजा गया, तो उन्होंने एचआर मैनेजर से वहां जाने से मना कर दिया. साथी कर्मचारियों का कहना है उन लोगों ने जहरीली गैस होने का हवाला भी दिया लेकिन मौके पर मौजूद एचआर ने कुछ नहीं होने की बात कही. कर्मचारियों का आरोप है कि टैंक साफ न करने पर मजदूरों का वेतन रोकने के साथ ही उन्हें नौकरी से निकालने की धमकी भी दी गई. इसके बाद दिलीप टैंक में उतरा और जहरीली गैस की चपेट में आ गया. साथी मजदूरों का कहना है कि उन्हें सेफ्टी किट भी नहीं दी जाती है.

टेनरी पहुंचे परिजनों और साथियों ने की तोड़फोड़
बताया जा रहा है कि अमित की मौत के काफी देर बाद उसके परिजनों को सूचना दी गई. परिजनों ने टेनरी प्रबंधन पर लापरवाही का आरोप लगाया. अमित की मौत से भड़के परिजनों और यहां मौजूद लोगों ने टेनरी के अंदर घूम-घूमकर तोड़फोड़ की. मौके से टेनरी प्रबंधन के लोग भी भाग गए. तोड़फोड़ की वजह से काफी देर तक यहां पर अफरातफरी की स्थिति बन गई. तोड़फोड़ की सूचना पर कई थानों का फोर्स, पुलिस और प्रशासनिक अफसर भी मौके पर पहुंच गए और आक्रोशित भीड़ को समझाकर शांत कराया.

बंदी के बावजूद टेनरी क्या चल रही थी?
इस घटना ने एक बार फिर से जाजमऊ की टेनरियों पर सवाल खड़े हो गए हैं. गौरतलब हो कि गंगा में प्रदूषण फैलाने की वजह से पिछले कई महीनों से टेनरियां बंद हैं. हालांकि, ट्रीटमेंट प्लांट में आने वाले फ्लो जरूर कई बार चोरी छिपे टेनरियों के चलने की गवाही दे चुका है लेकिन इस घटना के बाद ​एक बार फिर से टेनरियों पर सवाल खड़े हो गए हैं कि बंदी के आदेशों को धता बताते हुए उन्हें चोरी छिपे किस तरह से चलाया जा रहा है. इसके अलावा मजदूरों की जान से भी लगातार खिलवाड़ किया जा रहा है.


रिपोर्ट: सुनील तिवारी

यह भी पढ़ेें…

सीड हब से बढ़ेगी दलहनी फसलों की पैदावार, कृषिमंत्री बोले दुष्कर्मियों का बहिष्कार करें लोग

डेंगू के खिलाफ कांग्रेस ने भरी हुंकार, सरकार पर उठाए सवाल, पैदल मार्च से ठिठके राहगीर

14 को आ सकते हैं पीएम मोदी, कल केंद्रीय और प्रदेश सरकार के मंत्री देखेंगे गंगा की हकीकत


Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें FacebookTwitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-  ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media , Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login-  www.abcnews.media