रिस्क मैनेजमेंट सख्त कर रहीं इंश्योरेंस कंपनियां! कुछ इस तरह बन रहे नियम

ABC News: कोरोना की दूसरी लहर में लाइफ इंश्योरेंस कंपनियों के क्लेम में जबरदस्त बढ़ोतरी हुई है. ऐसे में अब कंपनियां अपने रिस्क मैनेजमेंट को सख्त कर रही हैं. कंपनियों ने क्लेम के अधिभार से बचने के लिए रिस्क मैनेजमेंट को सख्त करते हुए नए नियम लागू कर दिए हैं. जिसके तहत होम आइसोलेशन के जरिए भी आप कोविड-19 नेगेटिव होते हैं तो 3 महीने तक किसी भी इंश्योरेंस कंपनी से टर्म इंश्योरेंस प्लान नहीं खरीद सकते.

इसके अलावा टेलीमेडिकल की जगह अब टर्म इंश्योरेंस के लिए कंपनियां संपूर्ण मेडिकल टेस्ट पर ही जोर दे रही हैं. बता दें कि इससे पहले कंपनियां इंश्योरेंस खरीदने वाले से फोन पर ही उसकी मेडिकल हिस्ट्री और हेल्थ के बारे में जानकारी ले लेती थीं. ऐसे में कुछ लोग अपनी मेडिकल हिस्ट्री छुपा लेते हैं और इंश्योरेंस खरीदने के कुछ ही समय बाद क्लेम अप्लाई कर देते हैं. इसका भार इंश्योरेंस बेचने वाली कंपनी को उठाना पड़ता है. ऐसे में अब आम लोगों के लिए प्योर प्रोटक्शन प्लान यानी टर्म इंश्योरेंस प्लान खरीदना काफी सख्त हो गया है. क्योंकि लगभग सभी कंपनियों ने अंडरराइटिंग के नियम कड़े कर दिए गए हैं. नए नियमों के मुताबिक किसी भी तरह के कोविड मरीज को रिकवरी के 3 महीने बाद तक पॉलिसी नहीं बेची जाएगी. नई पॉलिसी के लिए टेलीमेडिकल की जगह मेडिकल टेस्ट पर जोर दिया जाएगा. रीइंश्योरेंस कंपनियों ने भी टर्म पोर्टफोलियो की रिस्क बढ़ा दी है. कुछ कंपनियों ने टर्म इंश्योरेंस के लिए वैक्सीनेशन से जुड़ी शर्तें भी जोड़ दी हैं. यानी कि अगर आपने कोरोना की वैक्सीन ली है तभी आपको पॉलिसी दी जाएगी वरना नहीं. या फिर आपको पॉलिसी दी जाएगी तो हो सकता है कि कंपनी आपसे प्रीमियम ज्यादा ले. कंपनियों ने क्लेम के भार से बचने के लिए रिस्क मैनेजमेंट सख्त कर दिया है.

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें  Facebook, Twitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login- www.abcnews.media