कहर: पहले बेटे, फिर पिता और चचेरे भाई की सड़क हादसे में मौत, मचा कोहराम

Spread the love

ABC News: बांदा के एक परिवार पर कुदरत ऐसा कहर टूटा है कि हर किसी की आंख नम हो गई है। पहले सड़क हादसे में बेटे की मौत हो गई. पुत्र की मौत की सूचना पर बांदा से कानपुर आ रहे परिवार भी सड़क हादसे का शिकार हो गया. इस हादसे में मृतक छात्र के पिता और चचेरे भाई की मौत हो गई. कुदरत के इस कहर की सूचना जब घर पहुंची तो सदमें तीन बहनों की हालत काफी ज्यादा बिगड़ गई. तीनों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. इस हादसे के बाद बिठूर पुलिस ने पीड़ित गरीब परिवार की मदद करने की अपील की है.

बांदा में रहने वाले फूलचंद गुप्ता की बेटी पूजा कानपुर के शारदानगर में रहती है. पूजा के पास ही रहकर उसका भाई अनमोल डीएवी इंटर कॉलेज में पढ़ाई कर रहा था. दूसरी बेटी आरती मंधना में किराए पर रहकर निजी कॉलेज से बीफार्मा का कोर्स कर रही है जबकि तीसरी बेटी सीमा बांदा में अपने पिता के साथ रहती है. आर्थिक रूप से काफी कमजोर होने के बावजूद फूलचंद्र अपने बच्चों की पढ़ाई को लेकर पूरी जीजान से जुटे थे.

मोबाइल फोन का टूटना बन गया काल
पूजा के घर पर रह रहे अनमोल से उसका मोबाइल फोन जमीन पर गिरकर टूट गया था. इसपर पूजा ने उसे डांट दिया था तो अनमोल ने मोबाइल ठीक कराने की बात कही थी. इसके बाद अनमोल मोबाइल ठीक कराने के लिए पैसे लेने साइकिल से मंधना में रहने वाली बहन आरती के पास जा रहा था. इस बीच रास्ते में अज्ञात वाहन की चपेट में आकर अनमोल की मौत हो गई. भाई की मौत की जानकारी होते ही दोनों बहनें बेसुध हो गईं. पुलिस ने बांदा में रहने वाले पिता को घटना की जानकारी दी.

कानपुर आ रहे परिवार के साथ भी हादसा, पिता और चचेरे भाई की मौत
सड़क हादसे में बेटे की मौत की सूचना मिलते ही फूलचंद्र और परिजनों में कोहराम मच गया. फूलचंद परिवारियों के साथ कानपुर के लिए निकल पड़े. इस बीच रास्ते में उनकी गाड़ी का एक्सीडेंट हो गया. हादसे में फूलचंद व उसके भतीजे की मौत हो गई. पिता व चचेरे भाई की मौत की जानकारी मिलते ही बहनें आरती व पूजा बदहवास होकर बेहोश हो गईं. उनकी हालत इतनी बिगड़ गई कि पुलिस ने दोनों बहनों को निजी अस्पताल में भर्ती कराया है. बिठूर थाना प्रभारी ने दोनों बहनों के इलाज के लिए परिवार की आर्थिक स्थिति का हवाला देते हुए लोगों से मदद की अपील की. व्यापार मंडल व बिठूर विधायक अभिजीत सिंह सांगा ने मदद के लिए भरोसा दिया.

दीपावली पर सभी को जाना था घर
एक परिवार से सड़क दुर्घटना में तीन लोगों की मौत की सूचना पर परिजनों का रो रोकर बुरा हाल हो गया और उनके आंसू तक सूख गए. परिजनों ने बताया कि गरीबी के बावजूद फूलचंद ने दोनों बेटियों और बेटे को कानपुर में पढ़ाई के लिए रखा था. वहीं बहनें रोते हुए कह रही थी कि गुरुवार को सभी को दीवाली पर घर जाना था. मर जाउंगी अनमोल के बिना, वो मेरा प्यारा भैया है, उसके लिए खाना बना कर रखा है. यह कहते हुए दोनों बहनें कई बार जान देने के लिए सड़क तरफ भागीं लेकिन लोगों ने पकड़ लिया. थाना प्रभारी ने उनकी देखरेख के लिए महिला सिपाहियों को रात में तैनात कर दिया था.


रिपोर्ट: सुनील तिवारी

यह भी पढ़ें…

हे भगवान! केवल 33.13 प्रतिशत मतदान, 34 वर्ष बाद गोविंदनगर में इतने कम वोट पड़े

कम मतदान ने उड़ाए होश, वोटर की उदासीनता ने खड़े कर दिए कई सवाल

शार्ट सर्किट की आग ने ऑटो पार्टस के दो कारोबारियों को कराया इतने करोड़ का नुकसान


Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

*

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें FacebookTwitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-  ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media , Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login-  www.abcnews.media