‘हर हर शंभू’ गाने वालीं फरमानी नाज ने दिखाया अपना Studio, स्टूडियो में बना है मंदिर

Spread the love

ABC News: फरमानी नाज सोशल मीडिया को वो नाम जिसकी चर्चा खूब हो रही है. यूट्यूब पर कई वीडियो शेयर कर चुकीं फरमानी नाज ने कभी ये सोचा भी नहीं होगा कि एक भक्ति गीत गाने के बाद अचानक वह सुर्खियों में ऐसे छा जाएंगी. सावन के महीने में भगवान शिव के भजन ‘हर हर शंभू’ गाकर कट्टरपंथियों के निशाने पर आईं फरमानी के खिलाफ मौलानाओं ने फतवा जारी किया था. क्योंकि उनके धर्म में दूसरे धर्म को बढ़ावा देना गुनाह है. फरमानी ने दिन-रात कितनी मेहनत की है, ये उनका स्टूडियो देखकर साफ पता चलता है.

फरमानी नाज ने अपनी आवाज को अपनी पहचान बनाई. इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर गानों के वीडियो को अपलोड कर दुनिया ने उन्हें जाना. वह अपने ज्यादातर वीडियो स्टूडियो पर ही शूट करती हैं, जिसको बनाने में 1 करोड़ रुपये खर्च हुए, इसका दावा खुद फरमानी ने किया है. दरअसल, फरमानी नाज ने अपने यूट्यूब चैनल पर स्टूडियो का वीडियो अपलोड किया है. वीडियो का टाइटल है- ‘एक करोड़ रुपए का स्टूडियो, अपनी मेहनत और आपकी दुआ से बनाया आपको आज दिखाते हैं. वीडियो में आप सुन सकते हैं कि फरमानी खुद बता रही हैं, ‘मेरे स्टूडियो में आकर लोग वीडियो बनाते हैं. मैं आज अपने स्टूडियो को खुद दिखाने जा रही हूं. इसी जगह हम लोग अपने गाने की रिकॉर्डिंग करते हैं. बाहर से आपको ये इतना सुंदर लग रहा है.’ स्टूडियो के पहले कमरे में दीवार पर यूट्यूब के बटन्स लगे हुए हैं. इसके बाद फरमानी मुख्य स्टूडियो में दाखिल होती हैं. मुख्य स्टूडियो में फरमानी नाज ने एक मंदिर भी बनाया है. इसके अलावा वह जगह भी दिखाती हैं, जहां पर वह अपने भाई फरमान के साथ मिलकर गाना गाया करती हैं. ये जगह मंदिर के ठीक सामने है. वीडियो में फरमानी ने अपने सॉन्ग राइटर से मिलवाया. फरमानी ने फैंस से ऐसे ही सपोर्ट बनाए रखने की अपील की है और प्यार-मोहब्बत बनाए रखने को कहा है. फरमानी ने भरोसा दिलाया कि वे आगे भी अपने गानों से फैंस को एंटरटेन करती रहेंगी.

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें  Facebook, Twitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login- www.abcnews.media