‘ बैटरी की खामियों से इलेक्ट्रिक स्कूटरों में लग रही आग’, निर्माताओं की बढ़ सकती हैं मुश्किलें

ABC NEWS: देश में इलेक्ट्रिकल वाहनों की शुरुआत में जांच से पहले ही वाहनों में आग लगने की घटनाएं सामने आई हैं जिससे सड़क पर उतरने से पहले ही इलेक्ट्रिक वाहनों की सुरक्षा पर सवाल उठ रहे हैं. सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री ने यह भी स्वीकार किया कि देश का इलेक्ट्रिक वाहन उद्योग अभी शुरू ही हुआ है और उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि इस उद्योग में सरकार कोई बाधा नहीं डालना चाहती.गडकरी ने कहा कि सुरक्षा सरकार के लिए सर्वोच्च प्राथमिकता है और मानव जीवन के साथ कोई समझौता नहीं किया जा सकता है.

हाल ही में इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) में किस वजह से आग लग रही है, इसकी जांच कर रही सरकार द्वारा गठित जांच समिति ने देश में लगभग सभी इलेक्ट्रिक दोपहिया (2 डब्ल्यू) आग की घटनाओं में बैटरी सेल या डिजाइन के साथ समस्याएं पाई हैं. समिति का गठन पिछले महीने ओकिनावा ऑटोटेक, बूम मोटर, प्योर ईवी, जितेंद्र ईवी और ओला इलेक्ट्रिक से संबंधित ई-स्कूटर में आग लगने और बैटरी में विस्फोट के मद्देनजर किया गया था.इस तरह से इस जांच के प्रारंभिक निष्कर्ष इलेक्ट्रिक  दोपहिया वाहन के निर्माताओं को मुश्किल में डाल सकते हैं.

समाचार एजेंसी आईएएनएस ने सूत्रों के हवाले से बताया कि विशेषज्ञों ने तेलंगाना में घातक बैटरी विस्फोट सहित लगभग सभी इलेक्ट्रिक वाहन में आग लगने की वजह इसकी बैटरी और बैटरी के साथ-साथ बैटरी डिजाइन में गड़बड़ी है. सूत्रों ने कहा कि विशेषज्ञ अब अपने वाहनों में संबंधित बैटरी मुद्दों को हल करने के लिए इलेक्ट्रिक वाहन के निर्माताओं के साथ व्यक्तिगत रूप से मिलकर काम करेंगे.

क्या कह रहे हैं EV निर्माता…

ओला इलेक्ट्रिक ने आईएएनएस को दिए एक बयान में कहा कि उन्होंने विश्व स्तरीय एजेंसियों को “हमारी अपनी जांच के अलावा, मूल कारण पर आंतरिक मूल्यांकन करने के लिए” कहा है.

कंपनी ने कहा “इन विशेषज्ञों के प्रारंभिक आकलन के अनुसार, यह एक अलग थर्मल घटना की संभावना थी,”ओला इलेक्ट्रिक पहले ही स्वेच्छा से 1,441 वाहनों को वापस ले जा चुकी है, ताकि उस विशिष्ट बैच के स्कूटरों पर प्री-इम्पेक्टिव डायग्नोस्टिक्स और स्वास्थ्य जांच की जा सके.

कंपनी ने कहा, “हमारा बैटरी पैक पहले से ही अनुपालन करता है और यूरोपीय मानक ईसीई 136 के अनुरूप होने के अलावा, भारत के लिए इसपर नवीनतम प्रस्तावित मानक एआईएस 156 के लिए परीक्षण किया गया है.”

भारत में इलेक्ट्रिक वाहनों में आग लगने के कई मामले आए सामने 

तेलंगाना के निजामाबाद जिले में एक प्योर ईवी इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर की बैटरी उनके घर में फट जाने से एक 80 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गई और दो अन्य घायल हो गए थे

इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर से जुड़ी एक अन्य दुखद घटना में, आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा में एक 40 वर्षीय व्यक्ति की घर में चार्ज होने के दौरान बूम मोटर्स के एक ई-स्कूटर में विस्फोट के बाद मौत हो गई. इस घटना में कोटाकोंडा शिव कुमार की पत्नी और दो बेटियां भी गंभीर रूप से झुलस गईं.

देश में अब तक तीन प्योर ईवी, एक ओला, तीन ओकिनावा और 20 जितेंद्र ईवी स्कूटर में आग लग चुकी है, जिससे उनकी सुरक्षा पर सवाल उठ रहे हैं.

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें  Facebook, Twitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login- www.abcnews.media