कानपुर में थमने का नाम नहीं ले रहा कोरोना संक्रमण , सात नए संक्रमित मिले

Spread the love

ABC NEWS: कानपुर में कोरोना संक्रमितों की संख्या थमने का नाम नहीं ले रही है. बुधवार को जिले में सात संक्रमित मिलने के बाद कुल आंकड़ा 53 पहुंच गया है. इसके साथ ही दस लोगों का होम आइसोलेशन पूरा हो हुआ. सीएमओ डा. नैपाल सिंह ने बताया कि बुधवार को विकास नगर, गोविंद नगर, शास्त्री नगर के लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है. संक्रमितों में बाहर से आने वाले मामलों की जांच की जा रही है. जिस-जिस स्थानों से संक्रमित मरीज मिले हैं उनके घर व मिलने वालों के घर आरआरटी टीम भेजकर संपर्क में आए लोगों की जांच की जा रही है.

पिछले कई दिनों से जिले में कोरोना संक्रमण का आंकड़ा थमने का नाम नहीं ले रहा है. इस सप्ताह में 25 जून को छोड़कर शेष सभी दिनों में संक्रमण के मामले मिले हैं. स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी रिपोर्ट के मुताबिक, बुधवार को कुल 2678 लोगों की सैंपलिंग की गई. इसमें एंटीजन 861, आरटीपीसीआर 1815 और ट्रू नाट के दो सैंपल लिए गए. प्राचार्य प्रो. संजय काला ने बताया कि कोरोना से बचाव के लिए सामूहिक स्थानों पर जाते समय मास्क का उपयोग जरूर करना चाहिए. बाहर से आने वालों में लक्षण दिखने पर तुरंत क्वारंटाइन कर जांच करानी चाहिए.

कोरोना से उबरे मरीजों के लिए में कारगर है स्टेम सेल थेरेपी कोरोना से उबरे मरीजों के साथ मधुमेह पीड़ितों में स्टेम सेल थेरेपी की उपयोगिता को परखने के लिए बुधवार को जीएसवीएम मेडिकल कालेज में पोस्ट कोविड मरीज और मधुमेह पीड़ित मरीज पर स्टेम सेल थेरेपी का परीक्षण किया गया. इस परीक्षण के जरिये लाइलाज बीमारियों से मरीजों को राहत पहुंचाने के लिए प्रयास कर रहे हैं. स्टेम सेल थेरेपी विशेषज्ञ डा. बीएस राजपूत ने बताया कि कोरोना के चलते लाखों मरीज ऐसे हैं जो पोस्ट कोविड लक्षण से आज भी परेशान हैं. कई मरीज ऐसे भी हैं जो आज भी आक्सीजन सपोर्ट पर हैं तो कुछ के फेफड़ों की कार्यक्षमता कम हो गई है. ऐसे मरीजों में पोस्ट कोविड लंग फाइब्रोसिस होती है.

ऐसे मरीजों को स्टेम सेल थेरेपी देकर उनके निष्क्रिय टिशू को फिर से बनाया जाएगा. उन्होंने बताया कि स्टेम सेल एक शल्य प्रक्रिया है. पोस्ट कोविड मरीजों में इसके जरिये ऐसे मरीजों की थेरेपी कर फेफड़ों की सूजन कम कर उनके टिशू को पुनजीर्वित किया करेगी. अंतरराष्ट्रीय मेडिकल पत्रिका स्टेम सेल रिसर्च एंड थेरपी में छपे लेख के अनुसार स्टेम सेल कोविड के साइटोकाइन स्टोम को कम करने के साथ कोविड के बाद होने वाली बीमारियों में लाभदायक है. इसकी मदद से मधुमेह से पीड़ित मरीजों को भी लाभ पहुंचाने की योजना है.

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें  Facebook, Twitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login- www.abcnews.media