Jio, Airtel और Vi यूजर्स के लिए बुरी खबर: 5G आने से पहले बढ़ सकते हैं टैरिफ

Spread the love

ABC NEWS: 5G सर्विसेस के आने से पहले भारतीय ग्राहकों को महंगे प्लान्स का तगड़ा झटका लग सकता है. ऐसे इसलिए क्योंकि एक हालिया रिपोर्ट में कहा गया है कि देश के तीन प्रमुख टेल्को एयरटेल, वीआई और जियो अपने हालिया खर्च की भरपाई के लिए टैरिफ की कीमतों में बढ़ोतरी कर सकते हैं.

दरअसल, 5G स्पेक्ट्रम की नीलामी भारत में खत्म हो चुकी है, जिसमें जियो ने 88,078 करोड़ रुपये में 24,740 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम खरीदा, एयरटेल ने 43,084 करोड़ रुपये में 19867.8 मेगाहट्र्ज स्पेक्ट्रम का अधिग्रहण किया और वोडाफोन आइडिया (वीआई) ने मिड-बैंड 5G स्पेक्ट्रम में 3300 मेगाहर्ट्ज और एमएमवेव 5G में 26 गीगाहर्ट्ज़ स्पेक्ट्रम का अधिग्रहण किया. उम्मीद की जा रही है कि तीनों टेलीकॉम कंपनियां इस साल अक्टूबर में भारत में 5G कनेक्टिविटी शुरू कर सकती हैं. जियो के चेयरमैन आकाश अंबानी ने भी 15 अगस्त के आसपास देशभर में 5G कनेक्टिविटी शुरू करने का संकेत दिया है. अंबानी ने 5G नीलामी समाप्त होने पर कहा था “हम पूरे भारत में 5G रोलआउट के साथ ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ मनाएंगे.

जियो विश्वस्तरीय, सस्ती 5G और 5G-इनेबल्ड  सर्विसेस की पेशकश करने के लिए प्रतिबद्ध है.” जैसा कि टेलीकॉम कंपनियां भारत में 5G सर्विसेस को शुरू करने के लिए तैयार हैं, विशेषज्ञों का मानना ​​​​है कि टेलीकॉम अपने हालिया खर्च की भरपाई के लिए भारत में टैरिफ बढ़ा सकते हैं.

इतनी बढ़ सकती है प्लान की कीमत
टेलीकॉम डिपार्टमेंट (DoT) टेलीकॉम कंपनियों से स्पेक्ट्रम उपयोग शुल्क (SUC) नहीं ले रहा है. विभाग ने तीन फीसदी फ्लोर रेट भी खत्म कर दिया है। इन परिवर्तनों के कारण, नोमुरा रिसर्च के शोधकर्ताओं का मानना ​​​​है कि तीन टेलीकॉम कंपनियों से टैरिफ में मामूली चार प्रतिशत की बढ़ोतरी की उम्मीद है.

इस कंपनी के ग्राहकों पर ज्यादा असर
रिसर्च ऑर्गनाइजेशन ने यह भी कहा कि Jio यूजर्स को एयरटेल यूजर्स की तुलना में अधिक टैरिफ वृद्धि का सामना करना पड़ सकता है. नोमुरा के शोधकर्ताओं ने अपनी रिपोर्ट में यह भी कहा कि दोनों कंपनियां, यानी Jio और Airtel, से उम्मीद की जा रही है कि वे अपनी 5G प्लान्स के लिए प्रीमियम मूल्य निर्धारण करें.

आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज का मानना ​​​​है कि टेलीकॉम कंपनियां अपने हालिया खर्च की भरपाई के लिए टैरिफ में 15 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी कर सकती हैं. इस बात की जानकारी टेलीकॉम टॉक ने अपनी रिपोर्ट में दी है. ईटी टेलीकॉम ने बताया कि DoT को उम्मीद है कि टेलीकॉम कंपनियां पहली इंस्टॉलमेंट के रूप में अगले 10 दिनों में लगभग 13500 रुपये जमा करेंगी, जिसमें Jio लगभग 7838 करोड़ रुपये, Airtel लगभग 3834 करोड़ रुपये, Vi लगभग 1673 करोड़ रुपये और अदानी डेटा नेटवर्क लगभग 212 करोड़ रुपये का भुगतान करेगा.

यह ध्यान देने योग्य है कि यह पहली बार नहीं है जब हम टेलीकॉम कंपनियों द्वारा भारत में अपने टैरिफ बढ़ाने के बारे में सुन रहे हैं। टैरिफ बढ़ोतरी का पहला दौर पिछले साल नवंबर-दिसंबर में हुआ था, जिसमें टेलीकॉम कंपनियां इस साल किसी समय होने वाली टैरिफ बढ़ोतरी के दूसरे दौर की ओर इशारा कर रही थीं.

कुछ कंपनियां पहले ही दे चुकी हैं हिंट
वोडाफोन आइडिया के सीईओ रविंदर टक्कर ने वित्तीय वर्ष 2022 की तीसरी तिमाही के लिए तिमाही राजस्व की घोषणा करते हुए कहा था, “यह संभव है कि 2022 में एक और मूल्य वृद्धि हो सकती है. निश्चित रूप से किसी बिंदु पर, कीमतों में बढ़ोतरी होगी.” भारती एयरटेल के एमडी और सीईओ भारत और दक्षिण एशिया के लिए गोपाल विट्टल के विचार समान थे. उन्होंने इस साल की शुरुआत में कहा था, “मुझे 2022 में टैरिफ बढ़ोतरी की उम्मीद है.”

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें  Facebook, Twitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login- www.abcnews.media