कानपुर की टेनरियों पर एक और चोट: अब सूखा काम भी हो जाएगा बंद, 10 हजार हो जाएंगे बेरोजगार

ABC NEWS: कानपुर शहर के चर्म उद्योग को लगातार झटके पर झटके लग रहे हैं. कोरोना संक्रमण के बीच निर्यात बंद होने के कारण मंदी की मार झेल रहा यह उद्योग अब देश में भी अपने उत्पाद नहीं बेच पा रहा है क्योंकि कई औद्योगिक इकाइयों को प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने बंद करा दिया है. मार्च में जिन 95 इकाइयों को बंद किए जाने के आदेश जारी किया गया था अब उनकी बिजली काटने का फरमान सुनाया गया है.

उद्यमी निराश: बिजली कटने के बाद इन औद्योगिक इकाइयों में चमड़े का जो सूखा काम हो रहा था वह भी बंद हो जाएगा. गीले के बाद सूखा काम बंद होने से इनमें काम करने वाले 10 हजार श्रमिक बेरोजगार हो जाएंगे. चार माह पहले इन इकाइयों को गीला काम बंद करने के लिए प्रदूषण नियंत्रण विभाग ने नोटिस दिया था, जिसके बाद से पानी से संबंधित काम बंद चल रहे थे. इन इकाइयों में अपर बनने, फिनिशिंग और बेल्ट जैसे चर्म उत्पाद बनाने का काम हो रहा था. प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की रिपोर्ट पर शहर में संचालित 402 चर्म औद्योगिक इकाइयों में 143 को डेढ़ साल पहले बंद कर दिया गया था. मार्च में 95 इकाइयों को और बंद कर देने से उद्यमी निराश हैं.

सीसीटीवी कैमरा न होने पर किया गया था बंद : टेनरी से निकलने वाले दूषित पानी की स्थिति देखने के लिए प्रदूषण विभाग ने उन्हें सीसीटीवी कैमरे लगाने के आदेश दिए थे. टेनरी संचालकों का कहना है कि जब टेनरी के पानी का आनलाइन डेटा विभाग के पास जा रहा है तो कैमरे लगाने की बात समझ से परे है. इन टेनरियों को मार्च में गीला काम बंद करने का नोटिस दिया गया था, जबकि अब बिजली काटने के आदेश दे दिए गए हैं.

उद्योग बचाने के लिए उद्यमियों की मदद करनी चाहिए: चर्म निर्यात परिषद के रीजनल चेयरमैन जावेद इकबाल का कहना है कि चर्म औद्योगिक इकाइयां पहले ही घाटे में हैं. निर्यात बहुत कम हो गया है. ऐसे में सरकार को उद्योग बचाने के लिए उद्यमियों की मदद करनी चाहिए. बार-बार बंदी के आदेश से यह उद्योग दम तोड़ देगा। लेदर इंडस्ट्री वेलफेयर एसोसिएशन के जनरल सेक्रेट्री असद इराकी ने कहा कि मुख्यमंत्री उद्योग को बढ़ावा देने की बात कर रहे हैं. सरकार की मंशा है कि उद्योग आगे बढ़ें. बिजली काटने का नोटिस केस्को पहले भी टेनरियों को दे चुका है. इसका मामला हाईकोर्ट में विचाराधीन है.

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें  Facebook, Twitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login- www.abcnews.media