प्याज के बाद खाद्य तेलों ने भी पकड़ी तेजी की राह, सरकार ने आयात बढ़ाया

  • बेमौसम की बारिश से फसल चौपट
  • सोयाबीन में सबसे ज्यादा तेजी
  • साथ में सारे खाद्य तेल भी हुए तेज

ABC NEWS: प्याज के बाद अब देश में खाने के तेल  के दाम बढ़ने लगे हैं. सोयाबीन उत्पादक राज्यों में बेमौसम बारिश और बाढ़ से फसल को भारी नुकसान हुआ है. इसीलिए देश में सोयाबीन और सरसों समेत तमाम तेल और तिलहनों के दामों में तेजी का रुख बना हुआ है. अंग्रेजी के एक बिजनेस अखबार के मुताबिक, सोयाबीन तेल  की कीमतें बढ़ने से भारत में कई खाने-पीने वाली डिशेज भी महंगी हो सकती हैं. देश में बढ़ती डिमांड के चलते भारत ने सोयाबीन तेल का इंपोर्ट 100 गुना तक बढ़ा दिया है. वित्त वर्ष 2014-15 से वित्त वर्ष 2016-17 तक देश में कुल 10-70 लाख रुपये का सोयाबीन तेल भारत में इंपोर्ट किया गया था. वहीं, वित्त वर्ष 2017-18 में यह बढ़कर 1.67 करोड़ रुपये हो गया था. साथ ही, मौजूदा वित्त वर्ष में अभी तक 167 करोड़ रुपये का सोयाबीन तेल इंपोर्ट किया जा चुका है.

आपको बता दें कि भारत खाद्य तेल का दुनिया में प्रमुख आयातक है. पिछले सीजन 2018-19 (नवंबर-अक्टूबर) में भारत ने 155 लाख टन से ज्यादा वनस्पति तेल का आयात किया, जिसमें खाद्य तेल का कुल आयात 2018-19 में 149.13 लाख टन था. देश में सबसे ज्यादा आयात पाम तेल का होता है, ऐसे में आने वाले दिनों में पाम तेल के दाम बढ़ने से देश मे उपभोक्ताओं को और महंगा खाद्य तेल मिलेगा.

क्यों महंगा हुआ खाने का तेल- बीते दो महीने में क्रूड पाम ऑयल के दाम में 26 फीसदी से ज्यादा का उछाल आया है. वहीं, सरसों की कीमतों में 300 रुपये कुंटल की वृद्धि दर्ज की गई है. जबकि सोयाबीन का दाम करीब 400 रुपये प्रति कुंटल बढ़ा है. कारोबारियों का कहना है कि देश में मानसून सीजन के दौरान भारी बारिश के कारण खरीफ तिलहन फसल, खासतौर पर सोयाबीन के खराब होने और चालू रबी सीजन में तिलहनों की बुवाई सुस्त होने की वजह से घरेलू बाजार में तेल और तिलहनों के दाम बढ़ गए है.
उपभोक्ता मामलों के मंत्री राम विलास पासवान ने राज्यसभा को बताया कि घरेलू उत्पादन इतना नहीं हो रहा है कि डिमांड को पूरा किया जा सके. इसीलिए सरकार खाद्य तेल का आयात कर रही है.

उत्पादन में आई गिरावट- सोयाबीन प्रोसेसर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (सोपा) के अनुसार मौजूदा फसल सीजन 2019-20 में सोयाबीन का उत्पादन घटकर 89.84 लाख टन ही होने का अनुमान है जबकि पिछले साल 109.33 लाख टन का उत्पादन हुआ था. नई फसल की आवक के समय उत्पादक राज्यों में 1.70 लाख टन सोयाबीन का बकाया स्टॉक बचा हुआ था, अत: चालू सीजन में कुल उपलब्धता 91.54 लाख टन की बैठेगी.


नेहा तिवारी                                                                         यह भी पढ़ें…..

निर्भया के हत्यारोपियों के लिए तिहाड़ में तैयार हो गया तख्त, 16 को हो सकती फांसी

नागरिकता संशोधन विधेयक का असम व पश्चिम बंगाल में विरोध शुरू

पीएम मोदी बोले-झारखंड के मतदाता भी कर्नाटक में जनमत की जीत का अनुसरण करें


Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें FacebookTwitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-  ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media , Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login-  www.abcnews.media