72 वां गणतंत्र दिवस: राजपथ पर तीनों सेनाओं की परेड, ब्रह्मोस मिसाइलों की निकली झांकी

ABC NEWS: गणतंत्र दिवस की सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेशनल वॉर मेमोरियल पहुंचकर शहीदों को श्रद्धांजलि दी. इस दौरान उनके साथ रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और तीनों सेनाओं के प्रमुख भी मौजूद रहे. हर बार गणतंत्र दिवस के जश्न से पहले शहीदों को इसी प्रकार श्रद्धांजलि दी जाती है.

भारत आज अपने 72वें गणतंत्र दिवस का जश्न मना रहा है. इस मौके पर दिल्ली के राजपथ पर परेड निकल रही है. जहां भारत अपनी शक्ति दुनिया के सामने दिखाएगा, साथ ही अलग-अलग हिस्सों की संस्कृति की झलक भी दिखाई जाएगी. राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री समेत अन्य हस्तियों ने देशवासियों को इस राष्ट्रीय त्योहार की बधाई दी.सबसे पहले राजपथ पर युद्धक टैंक टी-90 (भीष्म) ने अपना जलवा बिखेरा. यह मुख्य युद्धक टैंक, हंटर-किलर सिद्धांत पर कार्य करता है. यह 125 मिमी की शक्तिशाली स्मूथ बोर गन, 7.62 मिमी को-एक्सिल मशीन गन और 12.7 मिमी वायुयानरोधी गन से लैस है.


861 मिसाइल रेजिमेंट की ब्रह्मोस मिसाइल प्रणाली के मोबाइल स्वायत (ऑटोनोमस) लांचर ने राजपथ पर अपनी ताकत दिखाई, इसका नेतृत्व कैप्टन कमरूल ज़मान ने किया. 861 रेजिमेंट भारतीय तोपखाना की एक प्रतिष्ठित रेजिमेंट है. इस मिसाइल को भारत और रूस के संयुक्त उद्यम से तैयार किया गया है.
परेड में शामिल हुई बांग्लादेश की सेना
गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पर परेड की शुरुआत हो गई है. सबसे पहले हेलिकॉप्टरों ने दर्शकों पर फूल बरसाए और उसके बाद पूर्व सैनिकों ने राष्ट्रपति को सलामी दी. राजपथ पर पहली बार बांग्लादेश की सशस्त्र सेनाओं के 122 सैनिकों का मार्चिंग दस्ते ने अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई. इस दस्ते का नेतृत्व लेफ्टिनेंट कर्नल अबु मोहम्मद शाहनूर शावोन और उनके डिप्टी लेफ्टिनेंट फरहान इशराक और फ्लाइट लेफ्टिनेंट सिबत रहमान ने किया. इस दस्ते में बांग्लादेश की थल सेना, नौसेना और वायुसेना के जवान शामिल रहे.

राष्ट्रपति के राजपथ पर तिरंगा फहराने और सलामी देने के साथ ही शुरू हो चुका है गणतंत्र दिवस समारोह. इससे पहले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का राजपथ पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वागत किया. इसके बाद राष्ट्रपति मंच पर पहुंचे और तिरंगा लहराया. राष्ट्रगान के साथ ही गणतंत्र दिवस परेड की शुरुआत हो चुकी है.

नेशनल वॉर मेमोरियल पर शहीदों को श्रद्धांजलि और सलामी देने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अब राजपथ की ओर बढ़ रहे हैं. कुछ देर में पीएम मोदी राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का स्वागत करेंगे. गणतंत्र दिवस पर राष्ट्रपति विशिष्ट अतिथि होते हैं.नेशनल वॉर मेमोरियल पर शहीदों को श्रद्धांजलि देने के बाद पीएम मोदी ने विजिटर्स बुक पर विचार लिखें. इस दौरान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, सीडीएस जनरल बिपिन रावत, तीनों सेनाओं के प्रमुख मौजूद रहे.

राजपथ पर परेड की कमेंटरी शुरू हो गई है. कमेंट्री की शुरुआत में एलएसी पर चीन से लोहा ले रहे सैनिकों के पराक्रम और गलवान घाटी में वीरगति को प्राप्त हुए सैनिकों को श्रद्धांजलि दी गई. सेनाओं के आधुनिकिकरण, कोविड के खिलाफ भारत की जंग औक किसानों के लिए चल रही विभिन्न योजनाओं और देश की प्रगति और विकास के बारे में पूरी जानकारी जा रही है.

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने नेशनल वॉर मेमोरियल जाने से पहले अपने आवास पर तिरंगा फहराया.

राजपथ पर 841 रॉकेट रेजिमेंट की पिनाका मल्टी लॉन्चर रॉकेट सिस्टम की झलक दिखाई गई. इसका नेतृत्व कैप्टन विभोर गुलाटी ने किया. 214 mm पिनाका दुनिया की सबसे एडवांस रॉकेट सिस्टम में शामिल है.

400 किलोमीटर की मारक क्षमता रखने वाला ब्रह्मोस मिसाइल देश की आन बान शान का प्रतीक है जिसकी गति ध्वनि की रफ्तार से भी तीन गुणा ज्यादा है.

140 एयर डिफेंस रेजिमेंट की कैप्टन प्रीति चौधरी ने अपग्रेडेड शिल्का वेपन सिस्टम (Schilka Weapon system) की झांकी दिखाई.

राजपथ पर नौ सेना की झांकी भी दिखाई गई. झांकी के पहले भाग में भारतीय नौसेना द्वारा 04-05 दिसंबर 1971 की रात को मिसाइल बोट्स द्वारा कराची बंदरगाह पर हमले को दर्शाया गया. झांकी के दोनों तरफ हमलावर यूनिटों द्वारा अपनाए गए मार्ग को दर्शाया गया. नौ सेना की झांकी में 1971 के युद्ध में नौसेना के प्रमुख योद्धाओं की प्रदर्शन मंजूषा को दिखाया गया है. आईएनस विक्रांत को सी हॉक और अलाइज एयरक्राफ्ट के साथ फ्लाइंग ऑपरेशन में भाग लेते हुए दिखाया गया है.

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें  Facebook, Twitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login- www.abcnews.media