राफेल पर सुप्रीमकोर्ट ने खारिज की याचिका, चौकीदार चोर है वाले बयान पर राहुल गांधी को भी राहत

  • सुप्रीम कोर्ट से राहुुल गांधी को राहत
  • राफेल विमान सौदे पर दाखिल याचिका खारिज़
  • सबरी माला पर बड़ी बेंच करेगी सुनवाई

ABC NEWS : पिछले दिनों देश के सबसे पुराने और सबसे बड़े विवाद अयोध्या प्रकरण पर फैसला वाले दिन के बाद आज फिर पूरे देश की निगाहें देश की सर्वोच्च अदालत की ओर थी, क्यों कि आज भी तीन बड़े फैसले आने थे, सुप्रीम कोर्ट में राफेल विमान सौदा, सबरीमाला विवाद, औऱ पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी की अवमानना मामले में फैसला आना था.

सुप्रीम कोर्ट ने तीनों मामलों में सुनवाई की, जिसके बाद राहुल गांधी को जहां सुप्रीम कोर्ट ने चौकीदार चोर वाले बयान पर माफ कर दिया. तो वहीं सबरीमाला पर फैसला सुनाते हुए सर्वोच्च अदालत ने इसे बड़ी बेंच को सौंप दिया है. राफेल विमान सौदे पर दाखिल की गई पुनर्विचार याचिका सुप्रीम कोर्ट की ओर से खारिज कर दी गई.

फ्रांस से साथ किए गए इस समझौते में केंद्र सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे थे, जिसके बाद इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई थी. इसमें मामले की जांच, खरीदने की प्रक्रिया, पीएमओ के दखल पर सवाल खड़े किए गए थे. हालांकि राफेल मामले में सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में केंद्र सरकार को राहत दी थी. इसके बाद मामले में पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा, अरुण शौरी और वकील प्रशांत भूषण ने सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दायर की थी.

राहुुल गांधी ने सुप्रीम कोर्ट से चौकीदार चोर वाले बयान पर माफी मांगी थी. मामले पर फैसला सुनाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष को चौकीदार चोर वाले बयान पर माफ कर दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी द्वारा कांग्रेस नेता राहुल गांधी के खिलाफ गलत तरीके से अदालत में शिकायत करने के लिए दायर याचिका को खारिज कर दिया है, जिसमें राफेल मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ उनके ‘चौकीदार चोर है’ के नारे को गलत बताया. सुप्रीम कोर्ट ने राहुल गांधी को अदालत में अपनी टिप्पणी के लिए भविष्य में अधिक सावधान रहने के लिए कहा है.

एएनआइ के मुताबिक भारत के मुख्य न्यायाधीश ने कहा कि पूजा स्थलों में महिलाओं का प्रवेश इस मंदिर तक सीमित नहीं है, इसमें मस्जिदों और पारसी मंदिरों में महिलाओं का प्रवेश भी शामिल है. सुप्रीम कोर्ट ने सभी आयु वर्ग की महिलाओं के सबरीमाला मंदिर में प्रवेश की अनुमति देने वाले फैसले के खिलाफ समीक्षा याचिका पर अपना फैसला सुनाया है. सुप्रीम कोर्ट ने 3:2 के बहुमत से समीक्षा याचिकाओं को बड़ी बेंच को सौंप दिया है.न्यायमूर्ति रोहिंटन फली नरीमन और न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ इस फैसले के विपक्ष में रहे.


यह भी पढ़ें…

CBSE ने बदल दिया बोर्ड परीक्षा का पैटर्न, अब छात्रों का इंटरनल असेसमेंट भी होगा

सुप्रीम कोर्ट का बड़ा निर्णय: अब RTI के दायरे में आएगा CJI का कार्यालय

टाटा से मिले 356 करोड़ के चंदे पर सुब्रमण्यम स्वामी ने किया ऐसा ट्वीट, उठाए सवाल


 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें FacebookTwitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-  ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media , Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login-  www.abcnews.media