कानपुर : क्रिकेटर वीवीएस लक्ष्मण ने ट्वीट कर बताया प्रेरणा स्रोत, कुछ ऐसी है चाय वाले मलिक की कहानी

Spread the love
  • कुछ ऐसी है चाय वाले मलिक की कहानी
  • क्रिकेटर वीवीएस लक्ष्मण ने किया ट्वीट
  • 40 बच्चों को निशुल्क शिक्षा देते हैं महबूब मलिक

ABC NEWS : आर्थिक तंगी में खुद नही पढ़ सके तो चाय बेचनी शुरु की, जिसके बाद उस दर्द को समझते हुए कानपुर के शारदा नगर में रहने वाले महबूब मलिक ने बच्चों के लिए एक निशुल्क विद्यालय शुरु किया, जहां पर 40 बच्चों को मलिक की बदौलत शिक्षा की तालीम हासिल होती है. और महबूब मलिक के इस काम की जानकारी पर दिग्गज क्रिकेटर वी वी एस लक्ष्मण ने फोटो के साथ उनकी महानता को ट्वीट किया, तो मलिक दुनिया भर में फेमस हो गए.

 

ये तस्वीर कानपुर के छपेड़ा पुलिया इलाके की है, जहां पर चाय बेंच रहे इस युवक का नाम महबूब मलिक है. बचपन में आर्थिक तंगी के चलते शिक्षा की तालीम न हासिल कर पाने की कसक ने इनके मन में ऐसी तस्वीर उकेरी, कि आज ये दुनिया भर में प्रसिद्ध हो गए हैं. भारतीय क्रिकेट जगत में वेरी वेरी स्पेशल के नाम से चर्चित वीवीएस लक्ष्मण के ट्वीट करते ही कानपुर के चाय विक्रेता महबूब मलिक एक बार फिर देश भर में छा गए हैं.

वीवीएस लक्ष्मण ने उन्हें प्रेरणा स्रोत बताया है. पूर्व भारतीय क्रिकेटर वीवीएस लक्ष्मण ने महबूब अली का फोटो शेयर करते हुए लिखा है कि मोहम्मद महबूब मलिक, कानपुर में एक छोटी सी दुकान पर चाय बेचते हैं. इससे होने वाली आय से 40 बच्चों की शिक्षा का खर्च उठाते हैं.  वह अपनी कमाई का 80 फीसद हिस्सा इन बच्चों की पढ़ाई पर खर्च करते हैं.यह कितनी बड़ी प्रेरणा है.

उनके ट्वीट करते ही लोग उस पर लाइक करने लगे. इनकी संख्या कुछ ही घंटों में कई हजार पार कर चुकी है. सभी महबूब मलिक की प्रशंसा कर रहे हैं. महबूब मलिक कानपुर में छपेड़ा पुलिया के पास एक छोटी सी चाय की दुकान चलाते हैं. इस दुकान से जो आय होती है, उससे यह एक स्कूल चलाते हैं, जिसमें 40 बच्चे पढ़ रहे हैं.यह स्कूल बच्चों के लिए निशुल्क है.

वर्ष 2015 में खुले इस स्कूल में इस समय 40 बच्चे पढ़ रहे हैं. बच्चों को फीस के साथ ही पढ़ाई से जुड़ी किसी अन्य चीज पर भी कोई खर्च नहीं करना पड़ता है. स्कूल ही बच्चों को यूनीफार्म, स्टेशनरी और किताबें भी देता है. यह विद्यालय मां तुझे सलाम फाउंडेशन के तहत चलाता है.महबूब के मुताबिक वीवीएस लक्ष्मण के ट्वीट पर बहुत अच्छा लगा. कहा कि वह बच्चों को पढ़ाई में इसलिए मदद करते हैं, क्योंकि धन के अभाव में वह खुद ज्यादा नहीं पढ़ सके थे.


यह भी पढ़ें….

कर्ज लेकर नगर निगम कराएगा विकास कार्य, खुले में ये बातें की तो भरना होगा जुर्माना

KANPUR: नेहरू युवा केंद्र, यूनियन क्लब और डीएवी ग्राउंड नगर​ निगम लेगा वापस! पढ़ें रिपोर्ट


 

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

*

खबरों से जुड़े लेटेस्ट अपडेट लगातार हासिल करने के लिए आप हमें FacebookTwitter, Instagram पर भी ज्वॉइन कर सकते हैं … Facebook-  ABC News 24 x 7 , Twitter- Abcnews.media , Instagramwww.abcnews.media

You can watch us on :  SITI-85,  DEN-157,  DIGIWAY-157


For more news you can login-  www.abcnews.media